जीएसटी की दरों में 28% कर लगाए जाने में दुष्प्रचार: अहलुवालिया


रायपुर : केन्द्रीय संसदीय राज्यमंत्री एस.एस.अहलुवालिया ने कहा हैं कि सेवा एवं वस्तु कर (जीएसटी) में कुछ वस्तुओ पर 28 प्रतिशत कर लगाए जाने को लेकर दुष्प्रचार किया जा रहा है। श्री अहलुवालिया जीएसटी पर केन्द्रीय विभागों द्वारा आज यहां आयोजित कार्यशाला के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि 28 प्रतिशत कर मात्र 19 प्रतिशत उन वस्तुओ पर ही लगाया गया है जोकि लक्जरी है।

जबकि 81 प्रतिशत वस्तुओं पर 18 प्रतिशत और उससे भी कम कर दर लगाई गई है। इसके साथ ही आम उपभोग की कई वस्तुओं को पांच प्रतिशत कर ही लगाया गया है। उन्होने कहा कि अभी यह जीएसटी कर प्रणाली शुरू हुई है इसमें आ रही दिक्कतों और कुछ वस्तुओं पर कर ज्यादा या कम होने आदि जैसे जो भी सुझाव आयेंगे उसे जीएसटी कौसिल में रखा जायेगा और जो भी उचित फैसला होगा लिया जायेगा।

उन्होने बाजारों में जीएसटी के बाद कम हुई वस्तुओं का लाभ आम लोगो को नही दिए जाने के बारे में पूछे जाने पर कहा कि अभी यह प्रणाली शुरू हुए 11 दिन ही हुए है लेकिन अगर कहीं से शिकायते मिलेगी तो जरूर इसे दिखवाया जायेगा। जीएसटी से किसानों को लाभ सम्बन्धी एक प्रश्न के उत्तर में उन्होने कहा कि इससे कीमतों में गिरावट आयेगी और महंगाई कम होगी तो जाहिर है कि किसानों को भी इसका लाभ मिलेगा। उन्होने कहा कि इस नई कर प्रणाली के ज्यादा राशि केन्द्र एवं राज्य सरकारों को मिलेगी जिससे कि वह विकास कार्यं पर कहीं ज्यादा खर्च करने की स्थिति में होंगे