नगरनार का निजीकरण हुआ तो बस्तर के लिए जान दे देंगे कार्यकर्ता


जगदलपुर: बस्तर के नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण के विरोध में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ का ‘बस्तर बंदÓ कामयाब रहा । नगरनार में इस दौरान जोगी कांग्रेस की बड़ी सभा हुई, जिसे पार्टी के सीनियर लीडर धरमजीत ङ्क्षसह के लीड किया। वहीं रायपुर से पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष अजीत जोगी ने राजधानी रायपुर से एक वीडियो संदेश के माध्यम से केंद्र सरकार को चेतावनी दी कि बस्तर अब और अन्याय और अत्याचार नहीं सहेगा।

मैं केंद्र और राज्य की भाजपा सरकारों को चेतावनी दे रहा हूं कि, अगर अगले महीने 15 अगस्त तक नगरनार इस्पात संयंत्र को निजीकरण के जनविरोधी फैसले से आजादी नहीं मिली तो हम हमारे बस्तर का लोहा बाहर नहीं जाने देंगे। जोगी ने बस्तरवासियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ का हर एक कार्यकर्ता, रेल पटरी पर लेट जाएगा, बस्तर के लिए अपनी जान दे देगा, लेकिन नगरनार इस्पात संयंत्र को निजी हाथों में नहीं जाने देगा, छत्तीसगढ़ की खनिज संपदा को लूटने नहीं देगा।

जोगी ने आरोप लगाया कि पंद्रह सालों में बीजेपी सरकार बस्तर में एक प्लांट नहीं लगा पाए। उलटा जो मैंने लगाया उसका भी निजी हाथों में सौदा करने केंद्र की मदद कर रहे हैं। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने कहा कि जगदलपुर के संजय मार्कि से , जकांछ (जे) के वरिष्ठ नेता धरमजीत सिंह के नेतृत्व में, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कार्यकर्ताओं सहित बड़ी संख्या में बस्तर के विभिन्न सामाजिक संगठनों से सम्बद्ध लोगों ने नगरनार इस्पात संयंत्र तक रैली निकाली और विनिवेशीकरण का विरोध किया।

जकांछ के वरिष्ठ नेता धरमजीत ङ्क्षसह ने कहा कि भाजपा की सरकार को अब किसी भी शासकीय सम्पत्ति को अपने चहेतों को बेचने नहीं दिया जाएगा यह सम्पत्ति बस्तरवासियों की है एवं आने वाली पीढ़ी की धरोहर है जिसकी रक्षा के लिए छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता सक्षम है।