‘KBC’ शो में हिस्सा लेकर फंसी डिप्टी क्लेक्टर को मिली मुख्यमंत्री से विशेष अनुमति


रायपुर/बिलासपुर :  मुंगेली में पदस्थ प्रशिक्षु डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल को केबीसी में भाग लेने की विशेष अनुमति मिल गई है। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को जैसे ही इस प्रकरण का पता चला, उन्होंने अफसरों को बुलाकर कहा कि यह विशेष मामला है। वह अपने भाई के किडनी ट्रांसप्लांट के लिए केबीसी शो में जाकर रकम जीतना चाहती थीं। सीएम ने संवेदनशीलता दिखाते हुए अनुमति देने के निर्देश दिए।

Source

मुख्यमंत्री सचिवालय के अफसरों ने कहा कि सीएम के निर्देश के बाद मुंगेली कलेक्टर को पत्र जारी कर दिया गया है। मुंगेली कलेक्टर ने भी सोमवार को सरकार को पत्र लिखकर विशेष अनुमति देने का आग्रह किया था। ज्ञात हो कि अनुराधा खुद दिव्यांग हैं और वाकर के सहारे चलती हैं।

Source

उनका चयन केबीसी में हुआ तो उन्होंने अनुमति के लिए कलेक्टर के माध्यम से शासन को पत्र लिखा। सरकार से अनुमति मिलती, इससे पहले ही उन्हें मुंबई से फोन आ गया। वे कलेक्टर को अर्जित अवकाश का आवेदन देकर मुंबई चली गईं। वे केबीसी में भाग लेकर लौट आईं तब शासन की ओर से उनके आवेदन का जवाब जारी हुआ। जीएडी ने उन्हें शो में भाग लेने की अनुमति देने से इंकार कर दिया था। हांलाकि बाद में मुख्यमंत्री रमन सिंह के हस्तेक्षेप के बाद मामला सुलझ गया।

आपको बता दें कि ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के लिए सलेक्ट हुईं अनुराधा अग्रवाल मुंगेली की मुंगेली की डिप्टी कलेक्टर हैं। उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ हॉट सीट पर बैठने के लिए सामान्य प्रशासन विभाग से अनुमति के लिए आवेदन दिया था। लेकिन प्रशासन की ओर से उन्हें कोई जबाव नहीं मिला। इस बीच अनुराधा अग्रवाल शो में हिस्सा लेने मुंबई चली गई और शो पर उन्होंने कुछ रकम भी जीत ली। अब उनके भाई की किडनी ट्रांसप्लांट हो पाएगी।

मदद को आगे आए कई  लोग

Source

प्रशिक्षु डिप्टी कलेक्टर के भाई राजेश के इलाज के लिए कई लोगों और सामाजिक संस्थाओं ने मदद की पेशकश की है। सोमवार को अंबिकापुर के रिटायर्ड एआईजी राजेश सिंह ने अनुराधा को आर्थिक मदद की पेशकश की। साथ ही अंबिकापुर के दर्जनों लोगों और सामाजिक संस्थाओं ने भी मदद का आश्वासन दिया। रायगढ़, सक्ती व खरसिया से भी लोगों ने फोन कर सहायता की पेशकश की।

बता दें कि इसमें डिप्टी कलेक्टर द्वारा केबीसी से मिलने वाली राशि से भाई राजेश का इलाज कराने की बात बताई थी। उनकी दोनों किडनी फेल हो गई है।

Source

ट्रांसप्लांट में 12 से 15 लाख रुपए का खर्च आएगा। प्रशिक्षु डिप्टी कलेक्टर अनुराधा ने  बताया कि इस बाबत उनके मोबाइल पर तमाम और लोगों के फोन आ चुके हैं। हालांकि, अनुराधा ने साफ कहा है कि वह अपने भाई के इलाज के लिए किसी व्यक्ति विशेष अथवा संस्था से मदद नहीं लेंगी। अपने स्तर पर व पारिवारिक सदस्यों के सहयोग से भाई का इलाज कराएंगी।