काम में बरती लापरवाही, सस्पेंड


रायपुर: कामकाज में लापरवाही बरतने की वजह से आबकारी मंत्री अमर अग्रवाल ने कोंडागांव में पदस्थ जिला आबकारी अधिकारी जी आर पैकरा को निलंबित कर दिया। उन्होंने मदिरा दुकानों के निर्धारित समय पर सही ढंग से संचालन सहित मदिरा के अवैध परिवहन तथा बिक्री पर कड़ी निगरानी रखने के लिए विभागीय अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया है। आबकारी मंत्री ने आज आबकारी भवन में विभागीय काम-काज की गहन समीक्षा की।

अमर अग्रवाल ने प्रदेश में मदिरा दुकानों के निर्धारित समय पर सही ढंग से संचालन सहित मदिरा के अवैध परिवहन तथा बिक्री पर कड़ी निगरानी रखने के लिए विभागीय अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए। साथ ही मदिरा के निर्धारित दर से अधिक मूल्य पर बिक्री तथा मिलावट आदि के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। समीक्षा बैठक के दौरान ही कोण्डागांव जिले के जिला आबकारी अधिकारी जीआर पैकरा के मुख्यालय से हमेशा गायब रहने की शिकायत मिली। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने तत्काल प्रभाव से निलंबन के आदेश दिए। उन्हें निलंबित करते हुए निलंबन अवधि में जिला आबकारी अधिकारी पैकरा का मुख्यालय सहायक आयुक्त आबकारी कार्यालय दुर्ग निर्धारित किया गया है।

मंत्री अमर अग्रवाल ने सभी जिला आबकारी अधिकारियों को मदिरा दुकानों के सही ढंग से संचालन सुनिश्चित करने के लिए विशेष जोर दिया। इसके लिए उन्होंने मदिरा दुकानों में कार्यरत ऐसे विक्रेता तथा सुपरवाईजरों को तीन दिवस के भीतर तत्काल हटवा लेने के निर्देश दिए, जो पुराने शराब ठेकेदारों से संबद्ध हो। उन्होंने अवगत कराया कि इन कर्मचारियों के जरिए ही मदिरा में मिलावट आदि की शिकायत मिल रही है। इसे रोकने के लिए ऐसे कर्मचारियों को हटाना जरूरी है। अमर अग्रवाल ने मदिरा दुकानों में कार्यरत कर्मचारियों के स्थानांतरण पर इसकी सूचना तत्काल राज्य के विभागाध्यक्ष कार्यालय और संबंधित जिला आबकारी अधिकारी को देने के लिए भी निर्देश दिए।

उन्होंने मदिरा के अवैध परिवहन तथा बिक्री पर रोकथाम के लिए राज्य और संभाग स्तरीय उडऩदस्ता दलों को मदिरा दुकानों का सतत रूप से निरीक्षण करने के लिए निर्देशित किया। इसके अलावा सभी जिला आबकारी अधिकारियों को भी अपने-अपने क्षेत्र में लगतार भ्रमण करते हुए इसमें निगरानी रखने के निर्देश दिए।

बैठक में मंत्री ने मदिरा दुकानों में आहाता निर्माण और उपयोग तथा सीसी टीवी के संचालन व्यवस्था के बारे में समीक्षा की। इसके अलावा उन्होंने सभी मदिरा दुकानों के ऑडिट रिपोर्ट की जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने सभी दुकानों में पक्का देयक व्यवस्था के लिए प्रिंटर और स्केनर आदि की शीघ्र इंतजाम सुनिश्चित करने भी आवश्यक निर्देश दिए।