रमन का विदेशी निवेश पर फोकस


रायपुर : छतीसगढ़ में निवेश की संभावनाएं तलाशने खुद मुख्यमंत्री रमन सिंह आस्ट्रेलिया दौरे पर गए। यह मौजूदा कार्यकाल का अंतिम विदेश दौरा होगा। अफसरों को साथ लेकर मुख्यमंत्री वहां उद्योगपतियों से चर्चा कर राज्य में निवेश के लिए प्रोत्साहित करेंगे। मुख्यमंत्री के साथ अफसरों का दल आज आस्ट्रेलिया रवाना होगा। इससे पहले भी मुख्यमंत्री कई विदेश दौरे कर चुके हैं। वहां निवेशकों से चर्चा कर आमंत्रित किया है।

विदेश दौरे के बाद राज्य में बड़ी तादाद में निवेश का इंतजार किया जा रहा है। प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने पहले औद्योगिकीकरण की दिशा में काम किए हैं। वहीं दूसरी ओर राज्य में नई उद्योग नीति बनाकर उद्योगों को रिझाने की कोशिशें की है। देश में भी कई राज्यों में वन टू वन चर्चा कर उन्हें आमंत्रित किया है। टीम रमन माईनिंग में इंवेस्टमेंट की संभावनाएं टटोलने ऑस्ट्रेलिया जा रही है। वहां मेलबोर्न, सिडनी और कैनबरा की विजिट करेगी, जहां इंवेस्टर्स मीट आयोजित है। तीनों इंवेस्टर्स मीट में सीएम शामिल होंगे। वे वहां के उद्योगपतियों से वन-टू-वन भी मुलाकात करेंगे। इंवेस्टर्स मीट के लिए उद्योग विभाग बड़ी तैयारी करके जा रहा है। खुद सीएम ने इंवेस्टर्स मीट का प्रेजेटेंशन देखा है।

आस्ट्रेलिया दौरे में कई महत्वपूर्ण सेक्टरों में निवेश के दावे किए जा रहे हैं। राज्य में कई जिलों में उद्योगों को निवेश की शर्त पर जमीन देने के लिए भी सरकार ने रास्ते खोले हैं। हालांकि प्रदेश में भूराजस्व संशोधन विधेयक वापस होने के बाद अब नए सिरे से कवायदें करनी पड़ सकती है। बस्तर में टाटा संयंत्र के प्लांट नहीं लगाने के निर्णय के बाद आदिवासियों से अधिग्रहित की गई जमीन को सरकार ने लैंड पुल में रख लिया है। सरकार का जोर नया रायपुर समेत कई जिलों में वहां की संभावनाओं के मद्देनजर संबंधित कंपनियों को आमंत्रित करने की रणनीति है। ऐसी स्थिति में राज्य में बेहतर निवेश हुआ तो रोजगार के रास्ते भी खुल सकते हैं। हालांकि विदेशी निवेश को लेकर अभी भी संशय की स्थिति बनी हुई है। इसके बावजूद सरकार ने अपनी तरफ से कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। माना जा रहा है कि आस्ट्रेलिया में चर्चा के दौरान सरकार को अच्छी सफलता मिल सकती है।

अन्य हेल्थ सम्बन्धित जानकारियों के लिए यहाँ पड़ते रहिये