राजेंद्र राय और सियाराम कौशिक का निष्कासन तय…


रायपुर जोगी के साथ खुलकर नजर आते विधायक राजेंद्र राय और सियाराम कौशिक पर निष्कासन की कार्यवाही अब तय हो गई है। बुधवार को सदन के अंदर बने माहौल और फिर नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव के तेवर से इस कयास को और हवा मिल रही है। दरअसल आज बृजमोहन अग्रवाल के जमीन मुद्दे पर विपक्ष ने प्रश्नकाल में जोरदार हंगामा किया। प्रश्नकाल के निर्धारित 60 मिनट में से करीब 50 मिनट हंगामे में ही गुजर गया। लिहाजा कई जरूरी सवाल सदन में नहीं पूछे जा सके। जिस पर अमित जोगी ने आपत्ति जताई।

सदन के बाहर मीडिया से चर्चा करते हुए अमित जोगी ने यह आरोप दोहराया कि प्रश्नकाल को बाधित करना सत्ता और विपक्ष दोनों का संयुक्त एजेंडा था। अमित जब यह आरोप लगा रहे थे तो आरके राय और सियाराम कौशिक भी साथ में थे। ठीक उसके बाद आरके राय और सियाराम कौशिक ने भी उसी अंदाज में प्रश्नकाल को बाधित करने की आलोचना कर दी।

जिस समय दोनों यह बात मीडिया से कह रहे थे, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव साथी विधायकों के साथ मौजूद थे। बाद में सियाराम कौशिक और आरके राय के रूख के बारे में टीएस सिंहदेव से पूछा तो सिंहदेव ने कहा- अब तक ऐसा बयान नहीं आता था, अभी आया है, निष्कासन की कार्यवाही करेंगे। निष्कासन तय है।

बता दें कि, विधायक आरके राय अभी कांग्रेस से निलंबित हैं जबकि, सियाराम कौशिक अभी भी कांग्रेस के विधायक हैं और उनके खिलाफ पार्टी की तरफ से किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई है। लिहाजा कांग्रेस में रहकर कांग्रेस विधायकों की आलोचना करने का खामियाजा सियाराम कौशिक को टीएस सिंहदेव के सख्त तेवर के बाद उठाना पड़ सकता है।