आदिवासी बच्चों को मिल रहे शीशा, कंघा और नेलकटर


पत्थलगांव: छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में स्वच्छता अभियान के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में जागरुकता फैलाने के लिए पांच सरकारी स्कूलों में पहल की जा रही है। पत्थलगांव जनपद की ग्राम पंचायत चन्दागढ़ के 5 सरकारी स्कूलों में नन्हे बच्चों को स्वच्छता की आदत कायम करने के लिए शिक्षा से पहले स्वच्छता का पाठ पढ़ाया जा रहा है। सरपंच रोशन प्रताप ङ्क्षसह ने स्कूल में स्वच्छता कार्नर बना कर विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ स्वच्छता का भी पाठ पढ़ाने की बात कही थी।

इसके लिए सरपंच ने सामग्री भी उपलब्ध कराई है। ग्राम कोयलारभदरा प्राथमिक स्कूल की प्रधान पाठिका गंगोत्री ध्रुव ने स्कूल के बरामदे में स्वच्छता कार्नर बनाया है। कॉर्नर में विद्यार्थियों को साफ सुथरा रहने संबंधित सभी चीजें उपलब्ध कराई गई हैं।

कंघी, आईना के अलावा नेल कटर तथा शर्ट में टूटे बटन टांकने के लिए सुई धागा और बटन भी उपलब्ध कराया गया है। कई बार श्रीमती ध्रुव खुद बच्चों के नाखून काटने में सहयोग करती हैं।

हर दिन सतर्कता बरतने के चलते बच्चे अब स्वयं भी जागरुक हो रहे हैं, इसी का परिणाम है कि अब बच्चे अपनी पढ़ाई शुरू करने से पहले स्वच्छता कार्नर पहुंच कर स्वत: पूरी जांच परख करते हैं। इस ग्राम पंचायत अन्तर्गत प्राथमिक पाठशाला दउवापारा, भैंसामुड़ा, कुम्हाढ़ाप, नवीन चन्दागढ़ में भी स्कूली बच्चों के लिए ऐसे ही स्वच्छता कार्नर बना कर विद्यार्थियों को साफ सफाई और मध्याह्न भोजन से पहले हाथ धुलाने के समुचित प्रबंध किए गए हैं।