दंतेवाड़ा: छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में एक बार फिर माओवादियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है। माओवादियों द्वारा दंतेवाड़ा में किए गए IED ब्लास्ट में 6 जवानों की मौत हो गई है जबकि एक जवान घायल हो गया है। इस धमाके को दंतेवाड़ा के चोलनार गांव में अंजाम दिया गया है। धमाका इतना जबर्दस्त था कि जिस कार में जवान सवार थे, उसके परखच्चे उड़ गए। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमले को अंजाम देने के बाद माओवादियों ने सुरक्षाकर्मियों के हथियार भी लूट लिए। सुरक्षाबल घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं और इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

बताया जा रहा है कि धमाके के बाद माओवादियों ने जवानों पर फायरिंग भी की और फिर हथियार लूटकर जंगल में भाग गए। अभी तक 6 जवानों के शहीद होने की पुष्टि हुई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये जवान इलाके में चल रहे सड़क निर्माण के काम को सुरक्षा देने के लिए रवाना हुए थे, तभी माओवादियों ने इन्हें निशाना बना लिया। इससे पहले 13 मार्च को भी माओवादियों ने छत्तीसगढ़ के सुकमा में सर्च ऑपरेशन में जुटे CRPF के जवानों को निशाना बनाया था। उस हमले में 9 जवान शहीद हो गए थे।

बताया जा रहा है कि माओवादी बीते कई दिनों से सुरक्षाबलों की गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे। इस बार उन्हें हमला करने का मौका मिल गया और उन्होंने एक पुलिया के नीचे विस्फोटक लगा दिया, जिसकी चपेट में जवानों की कार आ गई। धमाके के साथ ही कार के परखच्चे उड़ गए और 5 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। हमले के बाद माओवादियों ने सुरक्षाकर्मियों के हथियारों को भी लूट लिया और जंगलों में फरार हो गए।

दरअसल सुरक्षाबलों द्वारा लगातार की जा रही कार्रवाई से नक्सली बौखला गए हैं। इसकी एक झलक कई बार देखने को मिलती है। कुछ दिन पहले यहां नक्सलियों ने सड़क निर्माण के काम में लगी 6 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। इतना ही नहीं नक्सलियों द्वारा सड़क निर्माण कार्य में लगे तीन कर्मचारियों को भी अगवा कर लिया था जिनमें एक सब- इंजीनियर और 2 कंस्ट्रक्शन वर्कर थे।

 

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ ।