ग्वालियर :बच्चे सभी प्रकार की समाज सेवाओं से जुडे़ रहें। बच्चे भी रचनात्मक कार्यों का आवश्यक प्रशिक्षण लेकर जनहित व समाज के लिये समर्पित होकर काम करें ताकि समाज व देश की तरक्की में उनका भी योगदान हो। उक्त आशय के उदगार हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने भारतीय रैडक्रास सोसायटी की हरियाणा राज्य इकाई एवं धरा फाउंडेशन गवालियर के सहयोग से यहां जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर में आयोजित हो रहे अन्तर्राज्यीय जूनियर रैडक्रास प्रशिक्षण शिविर में व्यक्त किए।

गत 8 फरवरी से शुरू हुआ यह शिविर 14 फरवरी तक आयोजित हो रहा है। इस अवसर पर जीवाजी विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सगींता शुक्ला, राज्यपाल हरियाणा कि सचिव डा. अमित कुमार अग्रवाल, हरियाणा रैडक्रास सोसायटी के वाईस चेयरमैन डा. मुकेश अग्रवाल, हरियाणा रैडक्रास के महासचिव डी. आर. शर्मा, धरा फाउंडेशन के सयोंजक श्री राजेश सिहं सोलंकी के साथ-साथ विभिन्न प्रदेश से आये 305 प्रतिभागी भी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

हरियाणा के राज्यपाल प्रो. सोलंकी ने कहा कि व्यक्तियों को अपने जीवन मे सर जीन हेनरी डयूनॉटके सिद्धांतो मानवता, निष्पक्षता, तटस्थता, स्वतंत्रता, स्वैच्छिक सेवाएं, एकता सार्वभौमिकता कोअपनाना चाहिये ताकि वे भी दुसरों की मदद एवं समाजिक कार्यो की ओर अग्रसर हो सके।

हरियाणा रैडक्रास के महासचिव डी आर शर्मा ने कहा कि वर्ष 2020 मे भारतीय रैडक्रास के 100वर्ष पूरे हो रहे है। हरियाणा रैडक्रास का यही उद्देश्य है कि वर्ष 2020 तक भारतवर्ष के प्रत्येक प्रदेश के लियेहरियाणा राज्य शाखा मिसाल बनें।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।