चीन ने दिखाई अपनी दादागिरी, मानसरोवर का किया रास्ता बंद


चीन ने एक बार फिर अपनी दादागिरी दिखाई और सिक्किम क्षेत्र में भारतीय जवानों पर सीमा पार करने का आरोप लगाया है। और कहा कि वह सीमा पार करने वाले अपने सैनिकों को जल्द ही वापस बुलाए वार्ना मानसरोवर यात्रियों को आगे नहीं जाने देगा सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि चीन ने मानसरोवर यात्रा को बंद कर दिया है चीन की ओर से नाथुला दर्रे रास्ते को बंद कर दिया गया है हालांकि अभी इस पर इंडिया के विदेश मंत्रालय का कोई बयान नहीं आया है।

वही चीन ने साफ तौर पर कहा है कि जब तक भारत सिक्किम बॉर्डर से अपनी सैनिकों को नहीं हटाएगा तब तक वह नाथुला दर्रे रास्ता को नहीं खोलेगा। आपको बता दें कि अभी भी करीब 6 गुटों को यात्रा करनी है।

Source

वही मंडे को ही एक वीडियो सामने आई थी जिसमें सिक्किम सेक्टर में इंडिया-चीन सीमा पर तैनात जवानों और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई है। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने इंडिया के सिक्किम सेक्टर में घुसकर 2 बंकर भी तबाह कर दिए हैं। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक दोनों देशों के सैनिकों के बीच यह रस्साकशी सिक्किम के डोका ला जनरल एरिया में पिछले 2 दस दिनों से चल रही है।

हालांकि अभी कुछ दिन पहले ही सिक्किम के नाथू-ला के पास पहुंचे मानसरोवर यात्रा के 2 जत्थों को चीन के बॉर्डर से वापस लौटा दिए जाने की खबर से राजधानी दिल्ली में ठहरे हुए तीसरे जत्थे के यात्रियों की चिंता बढ़ गई थी। दिल्ली में मानसरोवर यात्रा के लिए जाने वाले लोगों के लिए ठहराने की व्यवस्था गुजराती समाज भवन में रहती है और यहां पर तीसरे जत्थे के तीर्थयात्री मेडिकल चेकअप के लिए आ चुके हैं. इन यात्रियों को मेडिकल चेकअप में फिटनेस मिलने के बाद 27 जून को नाथू-ला के लिए रवाना किया जाएगा।

Source

चीनी सैनिकों ने 2 भारतीय बंकर किया नष्ट

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने सिक्किम के डोका ला जनरल एरिया में भारतीय सीमा में घुसपैठ की। सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि चीनी सैनिकों ने जब सीमा का अतिक्रमण किया तो भारतीय जवानों के साथ उनकी झड़पें भी हुईं। इस दौरान चीनी जवानों ने 2 भारतीय सैन्य बंकर नष्ट कर दिए।

                                                                                               Source

दोनों बंकर डोका ला के लालटेन क्षेत्र में थे। इसके बाद चीनी सैनिकों को पीछे धकेलने के लिए भारतीय सैनिकों को वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर काफी संघर्ष करना पड़ा। ताकि चीनी सैनिक सीमा के और अंदर न घुस सकें। इसके लिए भारतीय जवानों ने LAC पर मानव श्रृंखला बनाई और चीनी जवानों को पीछे हटने के लिए बाध्य किया।