चीन ताकतवर देश, लेकिन भारत भी कमजोर नहीं : आर्मी चीफ


army chief bipin rawat

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने देश की सीमा पर बढ़ते खतरे को लेकर आगाह किया है और इनका सामना करने के लिए हमें आधुनिक हथियार और तकनीक की दरकार रहेगी।

आपको बता दे कि आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि चीन ताकतवर देश होगा, लेकिन भारत भी कमजोर देश नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत किसी को भी अपने क्षेत्र में घुसपैठ की अनुमति नहीं देगा। आर्मी चीफ ने चीन की तरफ से मिलने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए भारतीय सेना की रणनीति पर बात की।

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा कि अब समय आ गया है कि भारत अपना ध्यान उत्तरी सीमा की ओर केंद्रित करे। देश इसके साथ ही चीन की आक्रामकता से निपटने में भी सक्षम है। आर्मी चीफ ने क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने के आक्रामक चीन के प्रयासों के बीच कहा कि भारत अपने पड़ोसियों को देश से दूर होकर चीन के करीब नहीं जाने दे सकता।

डोकलाम मुद्दे पर रावत ने कहा कि हम सीमा पर होनेवाली गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं। किसी भी तरह की हलचल हुई तो हम तैयार हैं।

वही बिपिन रावत ने ये भी कहा कि मौजूदा समय में भारतीय फौज को और ज्यादा पेशेवर बनाने की जरूरत है। आधुनिकीकरण के रास्ते पर चल कर हम अपनी फौज को और सक्षम बना सकते हैं। जनरल बिपिन रावत ने कहा कि डीआरडीओ की तरफ से फौज को महत्वपूर्ण मदद मिल रही है। लेकिन अनुसंधान में और तेजी लाने की जरूरत है ताकि व्यवसायिक तौर पर स्वदेशी हथियार प्रणाली का विकास हो सके। उन्होंने कहा कि रक्षा सौदों में विदेशी देशों पर निर्भरता कम करनी होगी।

रावत ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की उन चौकियों को हमने तबाह किया है जहां से आतंकियों को घुसपैठ कराईं जाती थी। हमने बड़े पैमाने पर पाक सैनिकों को मार गिराया। जितने सैनिक हमारे मारे गये उससे चार गुना ज्यादा पाक सैनिक मारे गए हैं।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादी लगातार भेजता ही रहेगा, आप जितने मारोगे वह फिर भेज देगा। इसलिए हमने निर्धारित किया कि पाकिस्तानी सेना की उन पोस्ट्स को निशाना बनाया जाए जहां से आतंकवादियों को मदद मिल रही है। हमारा मक़सद पाकिस्तानी पोस्ट्स को बर्बाद करना रहा है ताकि वह दर्द उनको महसूस हो। जितने सैनिक हमारे मारे गये उससे चार गुना ज्यादा पाक सैनिक मारे गए हैं।

उन्होंने कहा कि हमने 39 आतंकी ज़िंदा भी पकड़े हैं। हम उनको पूरा मौक़ा देते हैं। संपर्क करते हैं पर मैं यह कह सकता हूं कि कश्मीर में आतंकवाद ख़त्म नहीं हुआ है। इस बार हमारा ज़्यादा फोकस उत्तरी कश्मीर ओर होगा। हम गहन ऑपरेशन बारामूला, हंदवाड़ा, बांदीपुर, पट्टन आदि उत्तरी कश्मीर पर फोकस करेंगे।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।