चीन ने अब समुद्र में बढ़ाया तनाव, दिखे 13 चीनी नौसेना पोत, भारतीय नौसेना अलर्ट


नई दिल्लीः सिक्किम में चीन और भारत के बीच चल रहे तनाव के बीच अब चीन ने भारतीय समुद्री क्षेत्र में अपने  नौसेना पोत तैनात कर दिए है। ये पोत हाल ही में भारतीय समुद्री क्षेत्र में प्रवेश करते हुए देखे गए है। चीन ने हिंद महासागर क्षेत्र में ये पोत तैनात किए है। एक तरफ सिक्किम में भारत-चीन-भूटान सीमा पर भारत और चीन की सेना के बीच तनातनी और जुबानी जंग जारी है तो दूसरी तरफ हिंद महासागर क्षेत्र में चीन के जहाजों और पनडुब्बियों की ‘असाधारण’ गतिविधियां देखी जा रही हैं। भारतीय नौसना इस इलाके में चीनी युद्धपोतों की बढ़ती संख्या और उनकी गतिविधियों पर करीब से नजर रख ही है और पूरी तरह अलर्ट भी है।

13 चीनी नौसेना पोतों को घूमते देखा दिखे, इनमें आधुनिक लुयांग-3 भी शामिल

Source

पिछले दो महीनों में भारत के नेवल सैटलाइट रुकमिनी (जीसैट-7) ने भारतीय समुद्री क्षेत्र में कम से कम 13 चीनी नौसेना पोतों को घूमते देखा है। सूत्रों के मुताबिक इनमें आधुनिक लुयांग-3 भी शामिल है जो मिसाइलों को नष्ट करने की क्षमता रखता है, साथ ही युआन क्लास की एक पनडुब्बी भी यहां देखी गई है। इस क्षेत्र में दाखिल होने वाली यह 7वीं पनडुब्बी है. दिसंबर 2013 से लेकर अब तक चीन कभी परमाणु पनडुब्बी तो कभी डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बी को बारी-बारी से यहां तैनात करता रहा है।

आपको बता दें कि चीनी युद्धपोतों को तीन साल पहले 2013-14 में भारतीय समुद्री क्षेत्र में देखा गया था। उसके बाद से चीनी युद्धपोतों की गतिविधियां इस इलाके में बढ़ती चली गईं। गौरतलब है कि चीन का जासूसी पोत (हाईविशिंग) भी पिछले सप्ताह भारतीय समुद्री इलाके में घुस आया था।

Source

कहा जा रहा है कि ये पोत भारतीय समुद्री क्षेत्र में भारत-अमेरिका-जापान के बीच होने वाले वार्षिक नौसैनिक अभ्यास ‘मालाबार’ को मॉनीटर करने के लिए चीनी पोत को भेजा गया है। ये नौसैनिक अभ्यास 7 जुलाई से शुरू हो रहा है. इसी चीनी पोत को पहले भी भारत-अमेरिकी नौसैनिक अभ्यास की जासूसी करने के लिए तैनात किया गया था।

सिक्किम सीमा पर भी चल रहा है तनाव

ज्ञातव्य है कि भूटान के डोका ला क्षेत्र पर चीन अपना दावा करता है। चीन विवादित क्षेत्र में सडक निर्माण कर रहा है। भारतीय सेना ने इसका विरोध किया था। विरोध करने पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच धक्का मुक्की हो गई थी। इसके बाद चीनी सैनिकों ने भारतीय सेना के दो बंकरों को तबाह कर दिया था।