कांग्रेस ने जाधव मामले में ICJ के फैसले का किया स्वागत


नई दिल्ली :  अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने आज इंडियन नेवी के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव के फांसी पर रोक लगाने के फैसले का स्वागत करते हुए आज ने कांग्रेस ने कहा कि भारत सरकार और संयुक्त राष्ट्र ( United Nations ) को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस आदेश का पूरा सम्मान किया जाना चाहिए साथ ही इसे लागू करने में पाकिस्तान कोई बाधा न डाले।

कांग्रेस प्रवक्ता आनन्द शर्मा ने ICJ  के फैसले का कांग्रेस इसका स्वागत करता है और संवाददाताओं से कहा, पाक इसमें किसी भी तरह से कोई बाधा उत्पन्न न करे तथा सरकार को देखना होगा कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने जो एक दृष्टिकोण दिया है, उसका सम्मान किया जाए। संयुक्त राष्ट्र ( United Nations ) भी यह देखना होगा कि पाक किसी तरह का बाधा न डाले।”
गुलाम नबी आजाद ने भी पूर्व नौसेना अधिकारी के मृत्युदंड पर रोक लगाने के ICJ  के निर्णय का स्वागत किया और सरकार से न्याय दिलाने तथा उनकी भारत वापसी सुनिश्चित करने की अपील की है।
राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने एक बयान में कहा, ”कुलभूषण के खिलाफ पाक  का मुकदमा एक छलावा था। वह अंतराष्ट्रीय कानून ( International Law ) का घोर उल्लंघन था क्योंकि उनको एक कंगारू अदालत ने दूतावास से संपर्क के बिना मृत्युदंड का आदेश दिया। यह सराहनीय है कि विश्व अदालत को इंडिया की अपील में दम नजर आया। “

यह पूछे जाने पर कि इंडिया जिस तरह से ICJ गया है, क्या वह भविष्य में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट  के फैसलों को मानने के लिए बाध्य होगा, शर्मा ने कहा, ”देखिये एक दरवाजा तो खुला है। निश्चित तौर पर इंडिया के पास इस मामले में कोई और रास्ता नहीं था।

यह पाक सैन्य अदालत का एकतरफा फैसला था। दूतावास से कोई सम्पर्क नहीं कराया गया। भारत को मजबूर होकर वहां जाना पड़ा।” कोंग्रस प्रवक्ता ने कहा, ” हमें और विषयों को परे रखकर इस मामले को देखना होगा।। वियना समझौता हर देश के लिए बाध्य है। कुलभूषण मामले यह साफ़ हो गया है कि पाक ने वियना समझौते का उल्लंघन किया है।”

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा, ”मैं ICJ के फैसले का स्वागत करता हूं। पाकिस्तान एक कुटिल देश है। अब उसे अंतरराष्ट्रीय कोर्ट  का फैसला मानना चाहिए।”  सिब्बल ने कहा, ”यदि कुलभूषण  का परिवार चाहे तो मैं व्यक्तिगत तौर पर उनकी मदद करने के लिए तैयार हूं।”