अयोध्या विवाद : SC में हो आज सकती है लगातार सुनवाई की तारीख तय


Supreme Court

आज से सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मामले को लेकर सुनवाई होगी। कोर्ट में आज लगातार सुनवाई की तारीख तय हो सकती है। इस मामले में सुनवाई से पहले ही सुप्रीम कोर्ट साफ कर चुका है कि वो आस्था की तरह नहीं बल्कि जमीनी मामले के विवाद की तरह देख रहे हैं। शीर्ष अदालत में साल 2010 के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर 13 अपीलों की सुनवाई करेगा। सुनवाई दोपहर 2 बजे शुरु होगी।

8 फरवरी को हुई पिछली सुनवाई में भी ऐसा माना जा रहा था कि लगातार सुनवाई की तारीख तय हो सकती है लेकिन उस दिन सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने उन किताबों का अनुवाद मांग लिया, जिनके अंश हिन्दू पक्ष अपनी दलीलों के दौरान पढ़ेगा। इस मांग के चलते चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और एस अब्दुल नज़ीर की बेंच ने सुनवाई टाल दी।

कोर्ट ने हिन्दू पक्ष से कहा कि वो गीता, रामचरितमानस, पुराण, उपनिषद जैसे ग्रंथों के जिन हिस्सों को कोर्ट में रखना चाहता है, उनका अंग्रेज़ी अनुवाद मुस्लिम पक्ष को दे। दोनों पक्षों के वकीलों ने बताया है कि दस्तावेजों के अनुवाद और लेन-देन का काम पूरा हो चुका है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि या तो आज बहस की औपचारिक शुरुआत होगी या नियमित सुनवाई को तारीख तय होगी। ऐसे में अगर कोर्ट अगर लगातार सुनवाई शुरू करता है तो मामले का फैसला सितंबर के अंत तक आ सकता है।

मामले से जुड़ी धार्मिक भावनाओं को देखते हुए कोर्ट ने कहा था, “ये मामला एक ज़मीन विवाद है, हम इसे उसी तरह देखेंगे।” इस टिप्पणी के ज़रिए कोर्ट ने सभी पक्षों के वकीलों को ये संदेश दिया था कि वो कोर्ट में तथ्यों के आधार पर जिरह करें, भावनात्मक दलीलें न दें। मामला 7 साल से लंबित है। 30 सितंबर 2010 को इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट का फैसला आया था। हाई कोर्ट ने विवादित जगह पर मस्ज़िद से पहले हिन्दू मंदिर होने की बात मानी थी लेकिन ज़मीन को रामलला विराजमान, निर्मोही अखाडा और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच बांटने का आदेश दे दिया था। इसके खिलाफ सभी पक्ष सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, तब से ये मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहाँ क्लिक  करें।