भाजपा पूर्व नियोजित योजना के तहत विधायकों को अपने पाले में कर रही : कांग्रेस


congress

नयी दिल्ली : कांग्रेस ने भाजपा पर पूर्व नियोजित योजना के तहत उसके विधायकों को अपने पाले में करने का आज आरोप लगाया लेकिन दावा किया कि गुजरात राज्य सभा चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार अहमद पटेल फिर भी जीतेंगे क्योंकि उन्हें जीत के लिए जरूरी विधायकों से कहीं अधिक का समर्थन हासिल है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पटेल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के तौर पर, ना कि पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव के रूप में राज्य सभा चुनाव लड़ रहे हैं। इस चुनाव में सोनिया का नाम नहीं घसीटा जाना चाहिए। राज्य सभा में विपक्ष के नेता ने कहा, मैं कांग्रेस अध्यक्ष के नाम को शामिल नहीं करना चाहता। वह (पटेल) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के तौर चुनाव लड़ रहे हैं, ना कि राजनीतिक सचिव के तौर पर। उन्होंने कहा अहमद भाई कम से कम 10 से 15 वोट के अंतर से जीतेंगे। हमारे उम्मीदवार के पास 13- 14 फाजिल वोट है और भाजपा कहती है कि वे उन्हें अपने पाले में नहीं कर रहे। भाजपा ने चुनाव के लिए अपने तीसरे उम्मीदवार को क्यों उतारा है जबकि इसके पास पर्याप्त संख्या में विधायक नहीं हैं। यह सिर्फ हमारे विधायक को अपने पाले में करने के लिए ही है। आजाद ने कहा, विधायकों को अपने पाले में करने की यह एक पूर्व नियोजित योजना है।

उन्होंने कहा कि भाजपा हवाई अड्डा से ही कांग्रेस विधायकों को अपने साथ ले जाने की साजिश रच रही है। उन्होंने कहा, भाजपा उनके खिलाफ एक माहौल बना रही है। वे (भाजपा) कहते हैं कि जब लोग बाढ़ से प्रभावित हैं तब हमारे विधायक बेंगलुरू में हैं। भाजपा मौके को भुनना चाहती है ताकि जब ये विधायक लौटें तब उनमें से कुछ को वे अपने पाले में कर सके और कुछ अन्य का इस्तीफा करा सकें। आजाद ने दावा किया कि कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जमीनी स्तर पर प्रखंड से जिला स्तर तक बाढ़ पीड़ितों की मदद कर रहे हैं। राज्य विधानसभा में कुल 182 विधायकों में कांग्रेस के 57 विधायक थे। अब तक इनमें से छह ने पार्टी छोड़ी है, जिससे कांग्रेस के पास 51 विधायक ही रह गए हैं। पटेल को जीत के लिए 44 वोट की जरूरत होगी जो इस क्षण बहुत मुश्किल नहीं लगता। हालांकि, और अधिक विधायकों के टूटने से पांचवीं बार राज्य सभा जाने के लिए चुने जाने की उनकी संभावना जोखिम में पड़ सकती है। उन्हें राकांपा के दो और जदयू के एक विधायक का भी समर्थन मिलने का आश्वासन मिला है। वहीं, भाजपा ने राज्य से राज्य सभा चुनाव में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को उतारा है। पार्टी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को फिर से नामित किया है। साथ ही, तीसरे उम्मीदवार के तौर पर बलवंतसिंह राजपूत को पटेल के खिलाफ उतारा है।