जीएसटी स्लैब के विरोध में सड़कों पर कांग्रेस


नई दिल्ली: दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन की अगुवाई में दिल्ली स्टेट ट्रेडर्स कांग्रेस के तत्वाधान में जीएसटी के खिलाफ एक सप्ताह तक चलने वाले विरोध प्रदर्शनों तथा जागरूकता अभियान की शुरुआत करते हुए अजय माकन ने कहा कि जीएसटी के कारण न सिर्फ युवाओं के रोजगार छिन रहे हैं बल्कि कपड़े, जूते, खाने की वस्तुएं तथा फल इत्यादि भी महंगे हो गए हैं और मकान बनाना भी एक तिहाई महंगा हो गया है। जीएसटी के विरोध में दिल्ली स्टेट ट्रेडर्स कांग्रेस ने व्यापारियों के संगठनों के साथ बाबरपुर जिले में शाहदरा चौक निकट हनुमान मंदिर, कृष्णा नगर जिले में निकट गांधी नगर पुलिस स्टेशन, बदरपुर जिले में पुल प्रह्लादपुर मार्किट तुगलकाबाद, मैन महरौली रोड निकट रतिया मार्ग एन्ट्रेंस, बदरपुर जिले में आयरन फूट ओवरब्रिज संगम विहार विधानसभा, और पटपडग़ंज जिले में सेंट्रल मार्किट प्याऊ वाला पार्क लाजपत नगर आदि जगहों पर प्रदर्शन किया तथा जीएसटी व महंगाई के पुतले फूंके।

इन प्रदर्शनों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ व्यापारी संगठन तथा साधारण जनता ने भी भाग लिया। माकन ने व्यापारियों, सामान्यजनों तथा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रदर्शनों में संबोधित करते हुऐ कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार के द्वारा जीएसटी के गलत तरीके से लागू करने के कारण न सिर्फ छोटे उद्योग धंधे बल्कि उभोक्ता व समान्यजन को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। माकन ने कहा कि कांग्रेस के जीएसटी व भाजपा के जीएसटी में जमीन आसमान का फर्क है और सिर्फ जीएसटी नाम ही एक जैसा है क्योंकि कांग्रेस जीएसटी को 14 प्रतिशत के कर के कैप के साथ लागू करना चाहती थी जबकि भाजपा के जीएसटी में 43 प्रतिशत की आउटर लिमिट के साथ 6 स्लैब बनाए गए हैं। जीएसटी लागू होने से पहले कांग्रेस ने लघु उद्योग जिसमें 1.5 करोड़ की टर्नओवर थी उनको एक्साईज से छूट दी हुई थी। परन्तु अब भाजपा के राज में लघु उद्योग जिसकी 20 लाख से ऊपर की टर्नओवर है उनकों जीएसटी के अन्तर्गत भारी टैक्स देना पड़ रहा है। मोदी सरकार ने ऐसा तंत्र बना दिया है कि लघु उद्योग धंधों को अडानी और अम्बानी के साथ कम्पीट करना पड़ेगा।