पीट-पीट कर जान लेने वालों के खिलाफ माकपा ने राजनाथ से कार्रवाई की मांग की


नई दिल्ली : माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करके भीड द्वारा लोगों को पीट -पीट कर मारे जाने की हिंसक वारदात के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल में इस हिंसा में मारे गये अखलाख और पहेलू खान के बेटे भी शामिल थे।

                                                                                                  source

प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को एक ज्ञापन सौंपकर इन मामलों में हस्तक्षेप की मांग की। इससे पहले माकपा की दिल्ली और हरियाणा इकाई ने मुस्लिम समुदाय और दलितों पर बढते हमलों और मीट व्यापार पर प्रतिबंध के खिलाफ यहां जंतर -मंतर धरने का आयोजन किया। पार्टी की प्रमुख नेता वृंदा करात ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि वह एक ओर दलित के नाम पर आरएसएस के सदस्य को राष्ट्रपति बनाने में लगी है तो दूसरी ओर जातिवादी एवं हिंदुत्ववादी ताकतों को उकसाकर दलित समुदाय के लोगों पर हमले करा रही है।

                                                                                                 source

उन्होंने कहा कि अख़ला़क से लेकर पेहलु खान और 16 साल के बच्चे जुबैद की हत्या के जरिये समाज के साम्प्रदायिकरण और अल्पसंख्यकों के जीवन यापन पर हमले किये जा रहे हैं। डर और नफरत की राजनीति को बढ़ाया जा रहा है। इसका मुकाबला करने के लिए मेहनतकश लोगों को इकठ्ठा होना होगा। पूर्व सांसद मौला ने मोदी सरकार के द्वारा पशु व्यापार पर प्रतिबंध की भत्र्सना की। उन्होंने छोटे किसानों और मांस व्यापारियों पर इसके गंभीर प्रभाव की चर्चा करते हुए इस अधिसूचना को तुरंत वापस करने की मांग की। धरने में गात्रियाबाद व गौतमबुद्ध नगर के छोटे-छोटे खुदरा मीट, मछली, अण्डा व्यापारी शामिल हुए।