डीडीए हाउसिंग स्कीम: आवेदन की बढ़ी तिथि


पश्चिमी दिल्ली: दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) को हाउसिंग स्कीम-2017 में आवेदन फार्म भरने की अंतिम तिथि बढ़ाने के निर्णय को राजनिवास से हरी झंडी मिल गई है। अब इस आवासीय योजना के लिए लोग 11 सितम्बर 2017 तक आवेदन फार्म भर सकते हैं। ज्ञात को कि पहले यह अंतिम तिथि 11 अगस्त तक ही थी। लोगों की रुचि कम होते देख डीडीए ने लिया यह बड़ा फैसला। उल्लेखनीय है डीडीए ने 3 जुलाई को इस आवासीय योजना को लांच किया था तथा 11 अगस्त तक आवेदन फार्म भरने की तिथि तय की गई थी लेकिन डीडीए को जितनी उम्मीद थी उतने लोगों ने आवासीय योजना में रुचि नहीं ली। इस कारण ड्रा में शामिल किए गए 1272 फ्लैटों के बराबर भी आवेदन फार्म जमा नहीं हो सके हैं।

नतीजतन डीडीए ने फ्लाप होती अपनी इस हाउसिंग स्कीम के लिए पिछले सप्ताह अंतिम तिथि बढ़ाने का निर्णय लिया था ताकि स्कीम में शामिल में फ्लैटों के बराबर फार्म जमा हो सके। इस मामले में मंगलवार को डीडीए के उपाध्यक्ष उदय प्रताप सिंह के साथ संबंधित सभी अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक के उपरांत इस मामले को डीडीए के अध्यक्ष व उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास प्रस्तुत किया गया। अधिकारियों के अनुसार उपराज्यपाल ने अंतिम तिथि बढ़ाने की हरी झंडी दे दी है। बुधवार को डीडीए हाउसिंग विभाग के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि करते कहा कि अब अंतिम तिथि 11 सितंबर तय किया गया है। ज्ञात हो कि वर्तमान में आवासीय योजना के लिए फार्म जमा करने की अंतिम तिथि में सिर्फ दो दिन बचे हैं। अभी तक कुल सात हजार फार्म ही जमा हो सके हैं। अगर स्कीम में शामिल 12 हजार फ्लैट के बराबर आवेदन डीडीए को नहीं मिले तो डीडीए के लिए ड्रा भी निकालना मुश्किल हो जायेगा।

गौरतलब है कि डीडीए ने लोगों में स्कीम के प्रति उत्साह लाने के लिए जुर्माना राशि वसूलने में भी राहत प्रदान करने का निर्णय लिया है। डीडीए अधिकारियों के अनुसार उपरोक्त निर्णय में जुर्माना राशि में भारी राहत दी गई है। अब लोग ड्रा में शामिल होने से पहले ही अपना आवेदन वापस ले लेते हैं तो उनसे कोई जुर्माना राशि नहीं लिया जायेगा। इसके अलावा आवेदक को ड्रा में सफलता मिल जाती है। साथ ही उन्हें फ्लैट के लिए डिमांड लेटर जारी होता है लेकिन वे डिमांड लेटर होने के एक महीने के अंदर अपना नाम वापस ले लेते हैं तो उनसे अब मात्र पंजीकरण राशि का 10 प्रतिशत राशि ही काटी जायेगी। डीडीए द्वारा जुर्माना राशि में भारी छूट देने के बाद अब सभी बैंक आवेदकों को लोन देने के लिए तैयार हैं। डीडीए को उम्मीद है कि अब आवेदकों की संख्या बढ़ेगी।

– जे.के. पुष्कर