डीडीए हाउसिंग स्कीम की बढ़ेगी आवेदन तिथि


पश्चिमी दिल्ली: दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) अपनी हाउसिंग स्कीम-2017 को असफल होते देख सकते में आ गया है। आवेदन फार्म भरने की अंतिम तिथि 11 अगस्त है। आवेदन फार्म का हाल यह है कि अभी तक लगभग 70 हजार फार्म ही बिके हैं तथा जमा करने वालों की संख्या मात्र 5500 से 6000 के करीब है। इस आवासीय स्कीम में लोगों की रूची कम होते देख अब डीडीए आवेदन फार्म बेचने व जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाने पर विचार कर रहा है। बीते शुक्रवार को इस हाउसिंग स्कीम की बुलाई गई समीक्षा बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई।

अधिकारी जोर-शोर से शुरू की गई इस स्कीम के प्रति लोगों में उत्साह न होने का कारण जानने की कोशिश की गई। विशेष बात यह है कि इस स्कीम एलआईजी और ईडब्ल्यूएस के 11197 फ्लैट शामिल हैं लेकिल उतने आवेदन भी नहीं आए हैं। अधिकारियों को अब यह चिंता सता रही है कि यही हाल रहा तो उपरोक्त श्रेणी के फ्लैटों का ड्रॉ भी नहीं हो पायगो। बैठक में अधिकारियों ने निर्णय लिया है कि अगर आवेदन शुल्क जब्त के प्रावधान में कुछ छूट दे दी जाए और 15 दिन से एक माह के लिए अंतिम तिथि बढ़ा दी जाए तो आवेदन फार्म बिकने व जमा होने की संख्या बढ़ सकती है।

लोगों का रूची न होने का एक मुख्य कारर्ण बैंकों द्वारा फाइनेंस न करना भी शामिल है। पहले बैंक ड्रॉ की तिथि तक का ब्याज ले लेते थे। लेकिन इस बार जुर्माना स्वरूप आवेदन राशि जब्त करने का प्रावधान रखे जाने के कारण बैंक आगे नहीं आ रहे। संबंधित अधिकारियों का कहना है कि जुर्माना राशि के प्रावधान में छूट मिलने के बाद बैंक आवेदन शुल्क के लिए फाइनेंस करना शुरू कर देंगे। डीडीए के अधिकारी अब अपने द्वारा बनाए गए नियमों में रहत प्रदान करने का निर्णय लेने की सोच रहे हैं। हाउंसिंग कमिश्नर जे. पी. अग्रवाल का कहना है कि बैठक में लिए गए निर्णय से डीडीए उपाध्यक्ष उदय प्रताप सिंह को अवगत कराया जायेगा।, उनकी सहमति मिलने के बाद उपराज्यपाल के पास मामले को ले जायेंगे। उपराज्यपाल की हरी झंडी मिलते ही अंतिम तारीख बढ़ाने के साथ-साथ जुर्माना राशि जब्त करने के नियम में भी राहत दी जा सकती है। यही नहीं, उसके बाद कई बैंक फाइनेंस करने के लिए सामने आ सकते हैं।