डीडीसीए मामला: कीर्ति आजाद को पेशी से राहत


Court

नई दिल्ली: हाईकोर्ट ने डीडीसीए मानहानि मामले में भाजपा से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद को ट्रायल कोर्ट में 16 नवंबर तक पेशी से राहत दे दी है। क्रिकेटर से राजनेता बने चेतन चौहान और डीडीसीए की ओर से आजाद के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत की गई है। अदालत ने अंतरिम आदेश की अवधि को बढ़ाते हुए 16 नवंबर कर दिया। न्यायमूर्ति संगीता ढींगरा सहगल राहत अवधि 16 नवंबर तक के लिए बढ़ा दी। वहीं आजाद की ओर से शिकायत को रद्द करने की मांग संबंधी याचिका पर अदालत ने दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) और चौहान को चार सप्ताह के भी जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है।

24 मार्च को अदालत को आजाद को ट्रायल कोर्ट में व्यक्तिगत पेशी से छूट दी थी। हालांकि, अदालत ने मामले की सुनवाई पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था। इस मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत मिली थी। वहीं, आजाद को 18 फरवरी को जमानत मिली थी। आजाद ने इस आधार पर शिकायत को खारिज करने की मांग की है कि वह एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूर्व क्रिकेटर सुरिंदर खन्ना के पास बैठे थे और क्रिकेट की संस्था के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाए थे। डीडीसीए के खिलाफ सुरिंदर खन्ना ने आरोप लगाए हैं। आजाद ने दावा किया कि इस बात का रत्तीभर सबूत नहीं है कि उन्होंने डीडीसीए के खिलाफ टिप्पणी की।