तय हुए एल्डरमैन, जल्द होगी नियुक्ति


नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने तीनों निगमों में अपने सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए एल्डरमैन नियुक्त करने की योजना तैयार कर ली है। उम्मीद की जा रही है कि 30 जुलाई से पहले-पहले तीनों निगमों के 30 एल्डरमैनों की नियुक्ति कर ली जाएगी। इसके लिए फाइल जल्द ही एलजी अनिल बैजल के पास भेज दी जाएगी। दिल्ली सरकार के एक अधिकारी की माने तो तीनों नगर निगम में मनोनीत किए जाने वाले सदस्यों (एल्डरमैन) के नामों पर चर्चा कर फाइनल कर लिया गया है। इससे संबंधित फाइल दिल्ली सरकार के शहरी विकास विभाग के पास है। जल्द ही फाइल को एलजी अनिल बैजल के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। एलजी की मंजूरी के बाद संबंधित फाइल की अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। दिल्ली के तीनों निगमों में भाजपा सत्ता में आने के बाद से जोन पुनर्गठन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाई है। इसके वजह से जोन चेयरमैन का चुनाव और निगमों में स्टैंडिंग कमेटी चेयरमैन का चुनाव लंबित पड़ा है।

जबकि इस तरह की प्रक्रिया को चुनाव परिणाम आने के बाद मेयर व डिप्टी मेयर आदि के निर्वाचन के कुछ समय बाद ही पूरा कर लिया जाता है। सूत्रों की माने तो दिल्ली सरकार मनोनीत सदस्यों को जोन चेयरमैन व डिप्टी चेयरमैन चुनाव में वोटिंग अधिकारी दिलाने की भी अंदरखाने कोशिश कर रही है। इसके पीछे एक बड़ी वजह ये भी मानी जा रही है कि तीनों निगमों में वह विपक्ष की भूमिका में है। ऐसे में अगर मनोनीत सदस्यों को वोटिंग का अधिकार मिल जाता है तो हर जोन में उसके दस-दस पार्षदों की संख्या एकाएक बढ़ जाएगी। इससे भाजपा के लिए तीनों निगमों में सत्तारूढ़ पार्टी होने के बाद भी सभी जोनों पर कब्जा करना मुश्किल हो जाएगा। तीनों निगमों में 272 वॉर्ड में भाजपा के 181, आम आदमी पार्टी के 49, कांग्रेस के 31 और अन्य 11 पार्षद हैं।