दिल्ली मेट्रो में सफर करना पड़ सकता है भारी, तो हो जाये ! सावधान !


दिल्ली मेट्रो में हर दिन लाखों लोगों सफर करते है दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा कर रहे केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ( CISF ) ने आज एक डेटा रिलीज किया है जिस सुन आप भी हैरान रहे जायेगे जी हाँ , CISF ने जो डेटा रिलीज किया उसमें बताया गया है ।

दिल्ली मेट्रो में पॉकेटमारी की घटना हर दिन होती हैं लेकिन पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष जेब काटने के मामले में 3 गुना बढ़े है । जिसमें जनवरी से मई तक के डेटा को देखें तो पॉकेट मारी में 77 % महिलाएं पकड़ी गई हैं। CISF ने इस पर रोक लगाने के लिए पिछले महीने से एक अभियान शुरू किया है।

CISF के डेटा के बताया गया है कि पकड़े गई 77 % महिलाएं है जिसमें डेटा के अनुसार 521 पॉकेटमारों में से 401 महिलाएं है और 148 पॉकेटमारों को यात्रियों के द्वारा से पकडे गए है। CISF के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि पॉकेटमारी की घटनाओं को रोकने के लिए बडे़ पैमाने पर एहतियाती अभियान शुरू किया गया है।

CISF के अधिकारी का कहना है कि पॉकेट मार गैंग में महिला काम करती हैं जिसमें ज्यादातर अपने साथ बच्चों को लेकर चलते हैं। जिससे ध्यान बांटा जा सके। वही ये बताया कि लोग बच्चे के साथ सफर कर रही महिला पर शक नहीं करते और इसी का फायदा वे उठाते हैं।

CISF ने चोरी पर रोक लगाने टीम बनाई गई जिसमें एक सब-ऑफिसर और एक कॉन्सटेबल होगा एक सब-ऑफिसर और एक कॉन्सटेबल होगा वैसे तो अभियान में कई दलों को लगाया गया है।

जो संदिग्धों व्यक्तियों हर तरह से नजर रखेंगे। इनकी हेल्प के लिए ग्राउंड पर स्टाफ तैयार रहेगा। टीम सादे कपड़ों में होगी जिससे वह लोगों के बीच में रहकर संदिग्धों को पकड़ पाए । इन 8 स्टेशन्स पर एहतियात बरते । ये स्टेशन हैं कश्मीरी गेट, चांदनी चौक, शहादरा, हुड्डा सिटी सेंटर, राजीव चौक, कीर्ति नगर, नई दिल्ली और तुगलकाबाद।

CISF ने ऐसी घटनाओं पर रोक लगाने के लिए पॉकेटमारी के शिकार हुए लोगों से औपचारिक शिकायत या पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराने का अनुरोध किया है। अधिकारी ने कहना है कि अधिकतर मामलों में यात्री पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करते है। CISF ने बताया कि लोग दिल्ली मेट्रो में सफर करते वक्त अपने सामान को लेकर कुछ ज्यादा सतर्कता बरतें।