शिक्षकों की भर्ती में मिलेगी दिल्लीवासियों को वरीयता


नई दिल्ली: दिल्ली के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती के दौरान 85 फीसदी सीटें दिल्ली के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित करने के प्रस्ताव को दिल्ली विधानसभा से पास कर दिया है। इस फैसले के तहत 85 फीसदी सीटों पर उन्हीं उम्मीदवारों को मौका मिलेगा जिन्होंने 10वीं व 12वीं दिल्ली के स्कूलों से, स्नातक दिल्ली विश्वविद्यालय से और शिक्षा की डिग्री या डिप्लोमा भी दिल्ली के संस्थानों से ही हासिल की हो। लेकिन यह फैसला दिल्ली में हो रही 9500 अतिथि शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में यह फैसला लागू नहीं होगा।

दिल्ली विधानसभा में जारी प्रस्ताव पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों ने चर्चा में भाग लेकर अपनी बात रखी। जिसमें विपक्ष की ओर से बोलते हुए विधायक मंजिदर सिंह सिरसा ने कहा कि यह एक अच्छा कदम है, लेकिन दिल्ली सरकार के और भी विभागों में इसे लागू किया जाना चाहिए। प्रस्ताव पर चर्चा का उत्तर देते हुए उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस फैसले के बाद दिल्ली के उम्मीदवारों के पास मौके बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि यह किसी क्षेत्र की बात नहीं हो रही है, क्योंकि दिल्ली में सभी राज्यों से आए हुए लोग रहते हैं।