बदलेगा सड़कों का डिजाइन


नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल के बीच संबंध सुधरते हुए नजर आ रहे हैं। यही वजह है कि कई माह से लंबित पड़े सड़क रिडिजाइन प्रोजेक्ट पर दोनों के बीच सहमति बन गई है। बुधवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच हुई साप्ताहिक बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर मुहर लग गई। इतना ही नहीं उपराज्यपाल ने मुख्यमंत्री के उस आदेश को भी स्वत: संज्ञान ले लिया है, जिसमें केजरीवाल ने यातायात अवरोधकों की लिस्ट की मांग की थी।

साप्ताहिक बैठक के बाद उपराज्यपाल अनिल बैजल और अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर दोनों की मुलाकात को शानदार बताया। साथ ही दोनों के बीच हुए फैसलों की जानकारी भी दी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर लिखा कि दिल्ली में लोक निर्माण विभाग की सड़कों के दोनों तरफ हरियाली और लैडस्कैपिंग बढ़ाने के काम में तेजी आएगी। साथ ही सभी फुटपाथ और जेबरा क्रॉसिंग को पैंट किया जाएगा। इसके आलाव कुछ सड़कों को रिडिजाइन भी किया जाएगा। बता दें कि रोड री-डिजाइन का प्लान दिल्ली सरकार का महत्वकांक्षी प्लान है। इसमें साइकिल ट्रैक बनाने से लेकर कई अन्य बदलाव सरकार करना चाहती है।

जाम के काम पर श्रेय लेने की मची होड़

मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली में जाम अवरोधकों को लेकर मुख्य सचिव को दिए गए आदेश को उपराज्यपाल ने स्वत: संज्ञान लिया है। समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों को आधार बनाकर उपराज्यपाल ने इस मामले में मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर जानकारी भी दी है। अपने पत्र में उपराज्यपाल ने बताया है कि दिल्ली को जाममुक्त शहर बनाना उनकी प्राथमिकता में है। इसलिए उन्होंने उपराज्यपाल बनते ही जनवरी में 6 टास्क फोर्स का गठन किया था। इसमें दिल्ली पुलिस के उप आयुक्त रेंज (यातायात) को अध्यक्ष बनाया था। जिन्होंने भीड़-भाड़ वाले कॉरिडोर की पहचान शॉर्ट और लॉन्ग टर्म प्लान बताए थे।

गठित टास्क फोर्सों ने दिल्ली के विभिन्न और भीड़-भाड़ वाले इलाके में दौरा करके 77 कॉरिडोर की सूची भी दी थी। इसमें 28 कॉरिडोर ‘ए’ श्रेणी वाले प्राथमिकता के आधार पर चिन्ह्ति किए गए हैं। इन पर अतिक्रमण को हटाने का काम कानून के हिसाब से किया जा रहा है। वहीं पांच कॉरिडोर पर पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है। इसमें अरविंदो मार्ग (अरविंदो मार्ग से अंधेरिया मोड़ तक), मथुरा रोड (नीला गुम्बद से बदरपुर फ्लाईओवर), सावित्री फ्लाईओवर (चिराग दिल्ली क्रॉसिंग से सावित्री फ्लाई ओवर), सरदार पटेल मार्ग (11 मूर्ति से रजोकरी बॉर्डर) और धौलाकुआं (धौलाकुआं फ्लाईओवर से जीजीआर फ्लाईओवर, संजय टी प्वाइंट)।

उपराज्यपाल महोदय ने मुख्यमंत्री को बताया कि इस पूरे मामले की उनके द्वारा नियमित समीक्षा की जा रही है और माननीय उच्च न्यायालय के आदेशानुसार कुछ स्ट्रैचों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। साथ ही इस मामले में पूरा सहयोग देने की बात भी कही है। उपराज्यपाल ने कहा कि 28 प्राथमिकता वाले ट्रैफिक कॉरिडोर सूची मुख्यमंत्री के अध्यक्ष के लिए उपलब्ध करा दी जाएगी।