कारगर उपायों से हवा की गुणवथा सुधरी : हर्षवर्धन


dr.harshvardhn

नई दिल्ली : केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मामलों के मंत्री डा हर्षवर्धन ने कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण के संकट से निपटने के लिये संबद्ध एजेंसियों द्वारा किये गये कारगर उपायों के परिणामस्वरूप हवा की गुणवथा में सुधार हुआ है। डा. हर्षवर्धन ने आज कहा कि हवा की गुणवथा को खराब करने वाले प्रदूषक तत्वों पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा में लगातार दर्ज की जा रही गिरावट को देखते हुये उम्मीद की जा सकती है कि प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी से बाहर आ जायेगा।

उन्होंने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण से संबद्ध एजेंसियों के सामूहिक प्रयासों के कारण हवा की गुणवथा में सुधार हो रहा है। उल्लेखनीय है कि कल दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण के स्तर में तेजी से बढ़तरी होने के बाद यह खतरे के स्तर को पार कर गया था। इसकी वजह से दिल्ली में सेहतमंद लोगों के लिये भी सांस लेना दूभर हो गया था। हवा की गुणवथा को खराब करने वाले तत्वों पीएम 10 का स्तर कल 712 से गिरकर आज दोपहर दो बजे 566 के स्तर पर आ गया। जबकि पीएम 2.5 का स्तर कल 480 से घटकर आज 385 पर आ गया है।

प्रदूषण के स्तर में गिरावट के संकेत दे रहे इन आंकड़ के हवाले से डा. हर्षवर्धन ने कहा कि दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा की गुणवथा का मौजूदा स्तर अति गंभीर श्रेणी में बरकरार है। इसलिये मौसम को प्रभावित करने वाले पश्चिमी विक्षोभ के कारण हवा की नगण्य गति, वातावरण में नमी और पराली के धुंये के कारण मौसम विभाग ने आपात स्थिति को लागू रखा है। उन्होंने कहा कि गत सात नवंबर को शुरू हुआ यह संकट 11 नवंबर तक बरकरार रहा। इसके बाद प्रदूषण स्तर में मामूली गिरावट दर्ज करने के बाद 12 नवंबर को एक बार फिर हालात गंभीर हो गये। हालांकि सभी संबद्ध एजेंसियों के समन्वित प्रयासों से प्रदूषण की स्थिति में फिर से सुधार दिखने लगा है।