भारत-पाक साथ आएं तो विश्व को रास्ता दिखा सकते हैं: मुशाहिद


सियोल: भारत और पाकिस्तान के बीच बनते-बिगड़ते रिश्ते किसी से छुपी नहीं है, चाहे वह कश्मीर में आतंकवाद हो या फिर चीन के साथ पाकिस्तान की बढ़ती नजदीकियां। यह बात भारत को अक्सर परेशान करती है, मगर पाकिस्तान के सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद मानते हैं की नफरत की दीवारों को तोड़ कर अगर भारत और पाकिस्तान साथ आएं, तो पूरे विश्व को रास्ता दिखा सकते हैं। दोनों देश एशिया की सबसे बड़ी शक्ति बन सकते हैं। उनका कहना है सारी बातें प्यार से बैठ कर हल की जा सकती हैं। इसके लिए दोनों देशों को प्रधानमंत्री भारत के नरेंद्र मोदी जी और पाकिस्तान के वजीर-ए-आला नवाज शरीफ साहब आपस में बात कर सकते हैं। मोदी साहब पाकिस्तान आए, नवाज शरीफ साहब भारत पहुंचे दोनों मिलकर दोनों देशों की तरक्की के रास्ते निकाले।

मुशाहिद हुसैन चीन और पाकिस्तान के बीच बन रहे गलियारे की पार्लियामेंट्री कमेटी के चेयरमैन भी हैं। इस गलियारे को लेकर भारत चिंतित है। मुशाहिद हुसैन कहते हैं कि भारत को चिंता करने की जरूरत नहीं है। बल्कि भारत को इस गलियारे के साथ आना चाहिए इससे तीनों देशों की तरक्की के तमाम रास्ते खुलेंगे। ‘अगर भारत को कोई दिक्कत है तो वह पाकिस्तान और चीन की सरकारों से बात करके दूर कर सकते हैं। दोस्ती से सबका फायदा है।’ दोनों देशों के बीच क्रिकेट मैच के सवाल पर मुशाहिद हुसैन कहते हैं कि दोनों देशों के बीच जमकर क्रिकेट मैच होने चाहिए। इंडिया की टीम पाकिस्तान आए और पाकिस्तान की टीम भारत जाए। दोनों देश खूब क्रिकेट खेलें, इससे दोनों देशों के क्रिकेट प्रेमी खुश होंगे। रिश्ते मजबूत होंगे।

‘पंजाब केसरी’ के मुरीद हैं मुशाहिद हुसैन सैयद…

सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद कहते हैं कि पंजाब केसरी के संस्थापक लाला जगत नारायण जी एवं उनके सुपुत्र रमेश चंद्र जी के बारे में बहुत अच्छी तरह जानते हैं। उन्होंने बताया कि रमेश चंद्र जी ने उन्हें एक बार बहुत अच्छा वेजीटियन खाना खिलाया था। वह कहते हैं ‘पंजाब केसरी’ न केवल पंजाब बल्कि पूरे भारत की आवाज है, यह सबके दिलों की बात सबको दिखाता है। मुशाहिद हुसैन पहले ऐसे पत्रकार हैं, जो भारत के विभिन्न अखबारों में कॉलम लिखते रहे हैं। वह पहले पाकिस्तान के अखबार ‘द मुस्लिमÓ में सम्पादक रह चुके हैं। वह कहते हैं कि पीपुल टू पीपुल जुडऩा ही सबसे अच्छा काम हो सकता है। मुशाहिद हुसैन सैयद ने ‘पंजाब केसरीÓ से बातचीत के बाद तुरंत बाद ट्वीट करके ‘पाकिस्तान में होने वाले सार्क समिट और दोनों देशों के बीच क्रिकेट को पुन: स्थापित करने की वकालत की।