जींस की रंगाई से हो रहे कैंसर पर सचिवालय पहुंची सीबीआई


नई दिल्ली: पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में अवैध रूप से जींस रंगने की फैक्ट्रियां चलने पर हो रहे कैंसर को देखते हुए सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सीबीआई ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम को मुख्य आरोपी बनाते हुए दिल्ली सरकार को भी पार्टी बनाया है। पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए सीबीआई ने दिल्ली सचिवालय का भी रुख किया है। शुक्रवार को दिल्ली सचिवालय पहुंची सीबीआई की टीम ने मुख्य सचिव एमएम कुट्टी से मिलकर पूरे मामले के दस्तावेज मांगे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई ने मुख्य सचिव से जिम्मेदार विभागों और अधिकारियों के साथ दिल्ली सरकार की भूमिका को लेकर सवाल भी किए। गौरतलब है कि पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में जींस रंगाई की चल रही फैक्टियों से कैंसर फैलने की खबरें मीडिया में आई थी। मीडिया की खबरों को आधार बनाकर दिल्ली हाईकोर्ट ने इसे स्वत: संज्ञान भी लिया था। 25 मई को सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल व न्यायमूर्ति सी. हरि शंकर की खंडपीठ ने यह मामला सीबीआई को सौंपा था। खंडपीठ ने इस मामले में पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) के जिम्मेदार अधिकारियों के नाम बताने व विस्तृत रिपोर्ट देने का निर्देश दिया था। गुरुवार को मामला दर्ज करने के बाद सीबीआई की टीम ने दिल्ली सचिवालय में दस्तक दी।

बता दें कि पूर्वी दिल्ली के रिहायशी इलाकों में चल रही इन जींस की रंगाई की फैक्टियों से लोगों को बड़ी तादाद में कैंसर हो रहा है। इससे कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इस पर खंडपीठ ने सख्त रुख अख्यतीयार करते हुए नाराजगी जाहिर की थी। और सवाल किए थे कि आखिर रिहायशी इलाकों में यह फैक्ट्रियां कैसे चल रही है। क्योंकि फैक्टी मालिक फैक्टी को गुपचुप तरीके से चलाने के लिए पानी को बोरवेल द्वारा जमीन में भी डाल रहे हैं। पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में जल बोर्ड के पानी की व्यवस्था नहीं है। इसलिए लोग बोरवेल का पानी उपयोग करते हैं। इससे लोगों में बीमारियां फैलती है।

– निहाल सिंह