कपिल ने योगेंद्र-प्रशांत से मांगी माफी, केजरी पर किया तीखा हमला


नयी दिल्ली : दिल्ली सरकार से बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा ने काफी पहले पार्टी से निकाल दिए गए दो बड़े नेताओं प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव से आज सार्वजनिक रूप से माफी मांगते हुए कहा कि इन लोगों ने पार्टी में पनप रही तानाशाही के खिलाफ जो आवाज उठाई थी, उस पर गौर नहीं करके उन्होंने बहुत बड़ी गलती की।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके चार-पांच खास करीबी नेताओं पर आज फिर तीखा हमला करते हुए कपिल मिश्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि पार्टी को इन लोगों ने हाईजैक कर रखा है। उन्होंने इस मौके पर प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव से माफी मांगते हुए कहा “मैं शर्मिंदा हूं,आपलोगों की बात पर समय रहते ध्यान नहीं दिया,यह बड़ी गलती हो गई। केजरीवाल जी के इशारे पर मैंने आप लोगों के खिलाफ अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया था।” उन्होंने इसके साथ ही पार्टी के दो नेता संजय सिंह और आशुतोष के रूस दौरे का खुलासा किया और पार्टी में पनप रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्यकर्ताओं से आवाज उठाने का आह्वान किया।

कपिल मिश्रा ने आरोप लगाया कि आशुतोष और संजय सिंह के रूस दौरे को शीतल सिंह नामक एक व्यक्ति द्वारा प्रायोजित किया गया था। उन्होंने इस शख्स को श्री केजरीवाल द्वारा संरक्षण दिए जाने की बात की और कहा कि श्री केजरीवाल को यह बताना चाहिए कि वह इस व्यक्ति को जानते है या नहीं। उन्हें यह मालूम है कि नहीं कि यह व्यक्ति हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट का कारोबार करता है।

हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट का करीब 400 करोड़ का घोटाला
कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट का करीब 400 करोड़ का घोटाला हुआ है। इस घोटाले में शामिल कंपनियों के शीतल से संबंध रहे हैं। आम आदमी पार्टी की दिल्ली में बनी पहली सरकार के शासनकाल में ही इस घोटाले का पर्दाफाश हुआ तो फिर क्या वजह रही कि दूसरी बार आप की सरकार बनने पर भी शीतल की कंपनी को दिए ठेके रद्द नहीं किए गये। यह शीतल ही है जो आप के नेताओं को विदेश की सैर करा रहा है। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि घोटाले में शामिल कंपनियों से जुड़े कई लोग हवाला कारोबार में भी संलिप्त हैं।

श्री कपिल मिश्रा ने कहा कि वह मुख्यमंत्री केजरीवाल से नौ सवालों का जवाब चाहते हैं। अगर वह नहीं देते तो फिर उन्हें खुद ही ये बाते सार्वजनिक करनी पड़ेंगी जैसा कि उन्होंने आज संजय ङ्क्षसह और आशुतोष के बारे में किया है। कपिल मिश्रा ने आप के पांच नेताओं के विदेश जाने के बारे में श्री केजरीवाल से पहले भी सवाल किया था, लेकिन मुख्यमंत्री की ओर से कई जवाब नहीं मिलने पर उन्होंने भूख हड़ताल शुरु कर दी। इसके बाद भी जब मुख्यमंत्री की ओर से कुछ नहीं कहा गया तो उन्होंने अब खुद ही खुलासे करना शुरु कर दिया है।

उन्होंने इन नए खुलासों के साथ ही आप के कार्यकर्ताओं से भ्रष्टाचार मुक्त और केजरीवाल मुक्त दिल्ली बनाने का आह्वान किया और कहा कि जैसा आंदोलन सामजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के नेतृत्व में शुरु हुआ था, वैसा बहुत मुश्किल से संभव होता है ऐसे में उस आंदोलन की अलख जगाए रखने की जिम्मेदारी पार्टी के कार्यकर्ताओं की है।

‘हमें इस आंदोलन को नए रूप में खड़ा करना है इसलिए मैंने ‘लेट्स क्लीन अप मूवमेंट’ शुरु किया है।” उन्होंने इस आंदोलन में शामिल होने के लिए लोगों से एक खास नबंर पर मिस्ड कॉल करने का आग्रह किया और कहा कि ऐसे बहुत सारे कॉल आने के बाद वह एक बैठक बुलाएंगे जिसमें आगे की रणनीति तय की जाएगी। श्री मिश्रा द्वारा श्री केजरीवाल और उनके कुछ करीबी नेताओं पर लगाए गए ताजा आरोपों पर आम आदमी पार्टी की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।