नीतीश की ‘घर वापसी’ से राजग की विश्वसनीयता और ताकत बढ़ी : अकाली दल


नयी दिल्ली : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक बार फिर भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने की पृष्ठभूमि में राजग के घटक शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने आज कहा कि नीतीश की ‘घर वापसी ‘ से इस गठबंधन की विश्वसनीयता और ताकत में इजाफा हुआ है। शिअद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, “नीतीश कुमार देश के एक बड़े नेता हैं और उनकी विकास एवं सुशासन की छवि है। उनकी घर वापसी हुई है। उनके वापस आने से राजग की विश्वसनीयता और बढ़ गई। अब यह गठबंधन और भी ताकतवर हो गया है।  “उन्होंने कहा,”अकाली दल के लोगों का नीतीश जी के साथ बहुत पुराना और पारिवारिक संबंध रहा है। उनका आना हमारे लिए और खुशी की बात है।

दिल्ली विधानसभा के सदस्य सिरसा ने विरोधी दलों के इन आरोपों को खारिज कर दिया कि नए घटनाक््रऊम से नीतीश के अवसरवादी होने और धर्मनिरपेक्ष नहीं होने का पता चलता है। उन्होंने कहा, नीतीश कुमार जानते हैं कि देश को मोदी जी के रूप एक बेहतरीन प्रधानमंत्री मिला हुआ है और उनका साथ देने से देश का भला होगा। नीतीश जी का कदम अपने राज्य और देश के हित में है। वह पहले भी धर्मनिरपेक्ष थे और आगे भी उनकी छवि धर्मनिरपेक्ष की रहेगी। सिरसा ने बिहार में पिछले साल आयोजित प्रकाश पर्व  को लेकर भी नीतीश की तारीफ की।

उन्होंने कहा, नीतीश के नेतृत्व में प्रकाश पर्व का आयोजन बहुत शानदार था। हम लोगों ने देखा कि सारी तैयारियां उनके देखरेख में हुई थी। इस आयोजन को लेकर उनकी पूरी दुनिया के सिख समाज में तारीफ हुई थी।  अकाली नेता ने पिछले कुछ समय से अरविंद केजरीवाल की चुप्पी  को लेकर उन पर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा, केजरी की चुप्पी बहुत कुछ कहती है। पहले हर मुद्दे पर बोलते थे, लेकिन अब उनकी आवाज नहीं निकल रही है। मुझे लगता है कि वह भी भाजपा में आने की तैयारी कर रहे हैं।