चोटी काटने की वजह सनक या शोहरत !


नई दिल्ली : हरियाणा, राजस्थान के बाद दिल्ली में भी चोटी काटने के मामले सामने आए हैं। बाहरी दिल्ली के गांव कांगनहेड़ी में भी तीन महिलाओं की चोटी काटने का मामला सामने आया है। इसके साथ ही दिल्लीवालों को काले बंदर और यूपी के मुंहनोचवा की याद आने लगी है। एक समय था जब पूरी दिल्ली में काले बंदर का शोर था, लोग रातों को छतों पर चढ़कर पहरा देते थे।

यही हाल मुंहनोचवा के समय भी था, जब पूरे यूपी में सैकड़ों लोगों के मुंह नोचे गए थे। हरियाणा के झज्जर और राजस्थान के अजमेर से निकलकर अब यह चोटी काटने का सिलसिला दिल्ली तक पहुंच गया है। विशेषज्ञ इसे मानसिक स्थिति व अंधविश्वास से जोड़कर देख रहे हैं।

हालांकि, कई विशेषज्ञ इसे कुछ सनकी लोगों की सनक के चलते शोहरत पाने का आसान जरिया भी मान रहे हैं। जाहिर है कि ऐसी हरकतें करने से मीडिया से लेकर पुलिस महकमे तक सभी इन लोगों की तलाश में लग जाएंगे।

– सज्जन चौधरी/विकास कुमार