रेयान हत्याकांड: फोरेंसिक टीम पहुंची स्कूल, पिता ने की CBI जांच की मांग


गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए 7 साल के प्रद्युम्न की हत्या का मामला उलझता ही जा रहा है। बुधवार को फोरेंसिक साइंस लैबरेटरी की टीम रेयान इंटरनेशनल स्कूल जांच के लिए पहुंची। साथ ही, रोहतक से भी एक विशेष टीम पहुंची। फोरेंसिक साइंस लैबरेटरी की टीम ने रेयान स्कूल जाकर सबूत जुटाने की कोशिश की। पुलिस ने इस माामले में आरोपी बनाए गए बस के कंडक्टर अशोक के डीएनए सैंपल जांच के लिए करनाल के लैब में भेजे हैं। पुलिस अशोक के ब्लड टेस्ट के साथ ही पोटेंसी (मर्दानगी) टेस्ट भी करवा रही है।

वही, प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए कहा कि वे पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं हैं। अभी तक इस सवाल का जवाब नहीं मिला है कि बस कंडक्टर के पास चाकू कहां से आया। वह बाथरूम में चाकू साफ करने क्यों गया था। बता दें कि इस मामले में आरोपी कंडक्टर अशोक पुलिस की गिरफ्त में है। परिवार वाले ये जानना चाहते है कि अगर अशोक ने हत्या की है, तो इसकी वजह क्या थी? पुलिस इस पर भी जांच आगे बढ़ा रही है।

source

मंगलवार को प्रद्युम्न की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आई। जिसमे डॉक्टरों ने साफ किया है कि उसके साथ यौन अपराध नहीं हुआ था। और डॉक्टर ने ये भी बताया कि प्रद्युम्न को एक बार नहीं बल्कि 2 बार गर्दन पर चाकू से वार किए थे। मंगलवार को पुलिस ने बताया कि स्कूल की सुरक्षा में कमियों को देखते हुए इस मामले में रेयान इंटरनेशनल स्कूल से जुड़े अन्य अधिकारियों को भी अरेस्ट किया जा सकता है। रेयान के भोंडसी कैंपस के पूर्व प्रिंसिपलों से पूछताछ के लिए पुलिस की टीम केरल भेजी गई है।

बताते चले कि शुक्रवार गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने वाले 7 साल के मासूम प्रद्युम्न की गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। हत्या का इल्जाम स्कूल बस के कंडक्टर अशोक पर लगा। पुलिस पूछताछ में अशोक ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। अशोक ने पुलिस को बताया कि उसने प्रद्युम्न के साथ कुकर्म करने की कोशिश की थी। नाकाम होने पर पकड़े जाने के डर से उसने प्रद्युम्न की गला रेतकर हत्या कर दी।