आजादपुर मंडी में समाप्त हो सकती है हड़ताल


पश्चिमी दिल्ली : आजादपुर मंडी में हड़ताल के कारण मची अफरा-तफरी आज समाप्त हो सकती है। दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने हड़ताल कर रहे लोगों को मिलने के लिए बुलाया है। बैठक मुख्यता मंत्री के आवास पर होगी, लेकिन अगर बैठक में सरकार के अधिकारियों को भी शामिल किया गया तो बैठक का स्थान बदला भी जा सकता है।

उधर सोमवार को मंडी के अंदर हड़ताल का मिलाजुला असर दिखाई दिया। हड़ताल का समर्थन करने वाले अनिल मल्होत्रा गुट ने जहां हड़ताल को बेहद सफल बताया वहीं इसका विरोध कर रहे राजेश कुमार गुट ने हड़ताल को पूरी तरह से फेल बताया है। इस बीच मंडी प्रशासन का दावा है कि हड़ताल से फल व सब्जियों के रेट पर भी कोई असर नहीं पड़ा है।

सूत्रों की मानें तो केन्द्र व दिल्ली सरकार के आला अधिकारी भी पिछले दो दिनों से मंडी का दौरा कर रहे हैं, ताकि किसी भी तरह से इस टकराव को टाला जा सके। आजादपुर मंडी की चेयरपर्सन साक्षी मित्तल ने पंजाब केसरी को बताया कि हड़ताल कर रहे लोगों को दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने मंगलवार को मिलने के लिए बुलाया है।

उनकी ज्यादातर मांगे सरकार ने पहले ही मान ली थीं, लेकिन जिन बातों में सरकार और हड़तालियों के बीच मतभेद थे, उन्हें भी जल्दी ही दूर कर लिया जाएगा। यानी आने वाले वाले दिनों में लोगों को फल व सब्जियों के आसमान छू रहे दामों से राहत मिलने की उम्मीद है। उधर हड़ताल पर पक्ष और विपक्ष दोनों के ही अपने-अपने दावे हैं। हड़ताल कर रहे अनिल मल्होत्रा गुट का दावा है कि हड़ताल सुपर सक्सेज रही है।

मंडी में टमाटर की जहां रोजाना 60 से 70 गाड़ियां खुलती थीं, वहीं हड़ताल के कारण मात्र 3 गाड़ियां ही खुल पाईं। आम की 2 गाड़ियां, अनार की 1 गाड़ी, मौसमी की 2 और खीरे की 2 से 3 गाड़ियां ही खुल पाईं। इससे इन फलों और सब्जियों के रेट 40 पर्सेंट तक बढ़ गए। सूत्रों की मानें तो हड़ताल की वजह से कई किसानों ने अपने माल से लदी गाड़ियों को मंडी से बाहर भी लगाए रखा।

जिस कारण मंडी के अंदर फल व सब्जियों की आवक अन्य दिनों की अपेक्षा कम ही रही है। विरोधी गुट रोजश का दावा है कि हड़ताल पूरी तरह से बेअसर रही है। मंडी में शाम 4 बजे तक टमाटर बिकता देखा गया। मौसमी, प्याज, आलू जैसी सब्जियां भी अपने रोजाना के रेट पर ही बिकीं। व्यापारियों ने रोजाना की तरह ही अपना माल बेचा है। उधर मंडी प्रशासन का भी कहना है कि दिल्ली की जनता की सुविधा के लिए जल्दी ही मंडी में फैली अव्यवस्था को दूर कर दिया जाएगा।

इसके लिए एपीएमसी ने पूरी योजना तैयार कर ली है। जिसे जल्दी ही अमली जामा पहना दिया जाएगा। ज्ञात हो पंजाब केसरी ने सबसे पहले आजापुर मंडी में थड़ों की बंदरबांट से संबंधित खबर प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशित हो जाने के बाद मंडी प्रशासन में हड़कंप मच गया था। जिसके बाद आनन फानन में दिल्ली सरकार की ओर से मंत्री गोपाल राय को मंडी की समस्या दूर करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

– कुमार गजेन्द्र