सुनंदा पुष्कर केस रहस्य से उठेगा पर्दा!


नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की रहस्यमयी मौत के मामले में पर्दा उठने का समय आ गया है। लोग यह जानना चाहते हैं कि आखिर सुनंदा की मौत कैसे हुई। एम्स के मेडिकल बोर्ड ने ऑटोप्सी रिपोर्ट में जहर मिलने की पुष्टि की। लेकिन लोग यह जानना चाहते हैं कि आखिर यह जहर उसके पास कैसे पहुंची। पुलिस जांच में ड्रग्स ओवर डोज की बात भी सामने आयी थी। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला तो दर्ज किया लेकिन साढ़े तीन वर्ष बाद भी इस नतीजे पर नहीं पहुंची है कि सुनंदा की हत्या किसने की। अब यह मामला दिल्ली हाईकोर्ट में पहुंचा है। हाईकोर्ट ने इस मामले में दिल्ली पुलिस के द्वारा मामले की जांच में देरी पर सवाल उठाया है। हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से सुनंदा की मौत के पीछे की वजह का पता लगाने में हो रही देरी का कारण पूछा। हाईकोर्ट के रुख से मालूम पड़ता है कि इस मामले में जल्द ही रहस्य से पर्दा उठेगा।

स्वामी की याचिका पर फिर चर्चा में आया मामला
स्वामी ने एसआईटी का गठन करकोर्ट की निगरानी में मामले की समयबद्ध जांच की मांग की है। स्वामी ने आरोप लगाया कि जांच में ‘अत्याधिक देरी’ की गयी ‘जो न्याय प्रणाली पर धब्बा है।’ जनहित याचिका में कहा गया, यह आपराधिक न्यायिक प्रक्रिया का अत्यधिक धीमी गति का उदाहरण है और धनी व प्रभावी लोगों द्वारा प्रभावित किया जा सकता है। कहा गया है कि यहां तक कि तीन साल बाद भी कोई आरोपपत्र दाखिल नहीं किया गया है और कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

सौतेले बेटे ने स्वामी की मांगों का किया विरोध
सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका पर कांग्रेस नेता थरूर के सौतेले बेटे शिव मेनन ने स्वामी की मांगों का विरोध किया है। याचिका मेें कहा गया है कि मेरी मां की मौत के मुद्दे पर वह किस हैसियत से याचिका दाखिल कर सकते हैं। साथ ही अदालत से अनुरोध किया है कि स्वामी और उनके वकील पर यह रोक लगायी जाए कि वह सोशल मीडिया जैसे फेसबुक और ट्वीट्र पर मामले की सुनवाई से जुड़ी जानकारी साझा नहीं करें। गौरतलब है कि सुनंदा पुष्कर (52) 17 जनवरी, 2014 को दिल्ली के होटल लीला पैलेस में रहस्यमय हालात में मृत पाई गई थीं। इस मौत के बाद राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मच गया था। खबरों के अनुसार हादसे से पूर्व सुनंदा बहुत दु:खी और अकेली महिला थीं।

 – नीरज मिश्र