बुजुर्गों के लिए बन रहा है ‘स्वाभिमान परिसर’


elderly

पूर्वी दिल्ली: दिल्ली में रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक विशेष लीगल ऐड क्लिनिक व स्वाभिमान परिसर का निर्माण किया जा रहा है जो कि विभिन्न तरह की कानूनी व स्वास्थ्य जानकारी देने के साथ ही उनका मनोरंजन भी करेगा। इस परिसर के माध्यम से उम्रदराज लोग अपनी सभी जरूरतों को पूरा करेंगे। अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक विशेष डे केयर सेंटर का निर्माण किया गया है जिसमें विभिन्न तरह की स्वास्थ्य सुविधाएं सहित पठन-पाठन के लिए लाइबे्ररी के साथ ही उनका मनोरंजन भी करेगा। इस डे केयर के इस्तेमाल से उम्रदराज लोग अपनी बची हुई जिंदगी इज्जत के साथ जिएंगे। इस डे केयर का निर्माण उम्रदराज लोगों को स्वतंत्र, स्वस्थ और खुशहाल रखने के उद्देश्य से किया जा
रहा है।

बुजुर्गों के लिए अनूठी पहल
दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण दिल्ली में रह रहे वरिष्ठ बुजुर्गों के लिए एक अनोखी पहल की है। विधिक सेवा प्राधिकरण अब वरिष्ठ नागरिकों के लिए पूर्वी दिल्ली के झिलमिल के कस्तूरबा नगर में लीगल ऐड क्लिनिक व डे केयर सेंटर की शुरुआत करने जा रही है। यह अपने आप में एक अनूठी पहल होगी। इस डे केयर का नाम स्वाभिमान परिसर होगा। इस स्वाभिमान परिसर का निर्माण एनजीओ अनुग्रह व दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण मिलकर करेंगे। इस परिसर में तीन विभाग होंगे जिनमें प्रशिक्षण, शोध व प्रलेखन सेल होंगे। इस सेंटर में बुजुर्गो को खेलने के लिए, मनोरंजन के लिए व उनके खाने-पीने का पूरा इंतजाम होगा।

सीनियर सिटीजन एसोसिएशन से आग्रह
इस सेंटर में बुजुर्गों को जोडऩे के लिए दिल्ली में जितने भी सीनियर सिटीजन एसोसिएशन है उनसे आग्रह किया जाएगा कि वो अपने इलाके में जाकर सभी बुजुर्गों को इस डे केयर के बारे में जानकारी दें। इस सेंटर में जो पढ़े-लिखें सेवानिवृत्त बुजुर्ग होंगे उन्हें ही प्रशिक्षण देकर यहां का कर्मचारी बनाया जाएगा जिससे कि वो उन बुजुर्गों की समस्या को आसानी से समझ सकेंगे। इन कर्मचारियों को पारा लीगल वॉलंटियर कहेंगे। यही कर्मचारी पूरे राज्य में वरिष्ठ नागरिकों को साक्षर करेंगे।

सोशल मीडिया की जानकारी देंगे
दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अनुसार पूरे दिल्ली में लगभग 12 लाख बुजुर्ग है। उनमें सबसे ज्यादा संख्या बुजुर्ग महिलाओं की है। तथा पचास प्रतिशत से अधिक बुजुर्ग अनपढ़ है। प्राधिकरण उन बुजुर्गो को सोशल मीडिया की जानकारी भी देगी। सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्िवटर व वाट्सएप की जानकारी दी जाएगी जिसमें बताया जाएगा कि कैसे मैसेज को इन सोशल मीडिया पर भेजा जाता है। तथा उन्हेें सरकार की तरफ से दी जाने वाली सुविधाओं व स्कीमों के बारे में भी बताया जाएगा।

– विनय कुमार