देर रात तक चली ईसी की बैठक स्थगित


पश्चिमी दिल्ली: दिल्ली यूनिवर्सिटी में कार्यकारी परिषद (ईसी) की बैठक सोमवार देर रात तक चली। दो महीने बाद हुई इस मीटिंग में आठ घंटें तक लंबी बहस चली। इसके बाजूजद भी मीटिंग का कोई नतीजा नहीं निकला, जिसके बाद बैठक को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

गौरतलब है कि ईसी की इस बैठक में यूनिवर्सिटी से संबंधित कई अहम फैसले लिए जाने थे लेकिन शून्यकाल के दौरान सदस्यों द्वारा अधिक समय लिये जाने से बैठक बेनतीजा रही। इस मीटिंग में एकेडमिक काउंसिल (एसी) में पास किये गए कई प्रस्तावों को हरी झंडी मिलनी थी। मंगलवार को हुई मीटिंग में एसी के मिनट्स को कन्फ र्म कर दिया गया। मीटिंग के दौरान पेंशन के मुद्दे पर भी बहस हुई और यह लगभग दो घंटे तक चली।

पेंशन के मामले पर सदस्यों का कहना था कि इस मामले पर डीयू ने 1 और 2 केटेगरी को सुप्रीम कोर्ट में अपील किया है। तीसरी केटेगरी को एमएचआरडी से पत्र आने के बाद फाइनेंस ऑफि सर ने वीसी को अप्रुवल के लिए भेज दिया है। टीचर्स की मांग है कि डबल बेंच का फैसला लागू हो और दोनों एसएलपी वापिस लें। जब तक एसएलपी वापिस नहीं होती है तब तक तीसरी केटेगरी को भी पेंशन दी जाए। इसके अलावा इस बैठक के एजेंडे में प्रिंसिपल पोस्ट की अपॉइंटमेंट, प्रमोशन, अपॉइंटमेंट, गवर्निंग बॉडी का मुद्दा और दयालसिंह कॉलेज सांध्य को मॉर्निंग में तब्दील करना भी शामिल था।

एकेडमिक काउंसिल के सदस्य प्रो. हंसराज सुमन ने बताया कि उन्होंने रिजर्वेशन और रोस्टर पर कुलपति को पत्र लिखा है। पत्र में मांग की गई है कि वे 2016 में बनी मॉनेटरिंग कमेटी द्वारा रिजर्वेशन और रोस्टर को लेकर जो रिपोर्ट डीयू को सौंप दी गई है। वे इस रिपोर्ट को कल होने वाली ईसी की बैठक के एजेंडे में रखें।