राहुल गांधी ने कसा व्यंग, नोट गिनने के लिए गणित के शिक्षकों की तलाश क्यों, इच्छुक लोग PMO से संपर्क करे


rahul gandhi

राहुल गांधी ने चुटकी लेते हुए ट्विटर पर लिखा है कि सरकार नोटों की गिनती करने के लिए गणित के शिक्षकों को तलाश रही है, इच्छुक लोग PMO से संपर्क कर सकते हैं। दरअसल राहुल गांधी ने ट्विटर पर नोटबंदी के बाद पुराने नोटों के आंकड़ों से जुड़ी एक खबर को टैग करते हुए केंद्र सरकार पर तंज कसा है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल संसद की वित्त मामलों की स्थाई समिति के सामने पेश हुए तो ज्यादातर सदस्यों ने उनसे यही सवाल पूछा कि नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक के पास कितने रुपये आए। उन्होंने बताया कि नोटबंदी के समय 17.7 लाख करोड़ रुपये की मुद्रा बाजार में थी, जिसमें से ज्यादातर 500 और 1000 रुपये के नोट थे। लेकिन इसमें से कितना रुपया पुराने नोट के रूप वापस आ चुका है, इस सवाल पर उर्जित पटेल ने गोलमोल जवाब दिया था।

उर्जित पटेल ने कहा कि पुराने नोट आने का सिलसिला अभी भी जारी है और गिनती अभी पूरी नहीं हुई है। सदस्यों के सवाल पर उर्जित पटेल ने कहा की नेपाल और भूटान से पुराने भारतीय नोट अभी भी आ रहे हैं और हाल में ही कॉपरेटिव बैंक को फिर से पुराने नोट जमा करने की अनुमति दी गई थी। उन्होंने कहा कि इतने पुराने नोट को गिनना आसान काम नहीं है। उन्होंने बताया कि नोटों को तेजी से गिनने के लिए कर्मचारी रात-दिन काम कर रहे हैं और इसके लिए अत्याधुनिक नई मशीनें भी खरीदी गई हैं।

सरकार के पास कितने 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट जमा हुए, इसके जवाब में RBI ने बताया था कि अभी भी नोटों की गिनती जारी है और सही आंकड़े आने में कुछ और वक्त लगेंगे। अब इस मामले को लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर तंज कसा है।