अक्टूबर से शुरू होगी दिल्लीवासियों के लिए बिना-ड्राईवर वाली मेट्रो, जानिये ख़ासियते


आने वाले अक्टूबर से दिल्लीवासियों के लिए मेट्रो नया तोहफा देने जा रही है, अपने आगामी मेजेंटा लाइन प्रोजेक्ट में आप ड्राईवरहीन मेट्रो के सफ़र का आनंद ले सकते है। इस मेट्रो लाइन में समय का खास ख़याल रखते हुए हर 100 सेकंड में मेट्रो सुविधा देने का वायदा किया गया है।

इसके में बारे कहा जा रहा है, गुलाबी और मेजेन्टा जैसी नई लाइनें उन्नत सुविधाओं से लैस होंगी जो यात्रियों के सफ़र के समय को कम करेंगी।  गति और कक्षा दोनों के वादे के साथ, इन नई मेट्रो ट्रेनें दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में दूरी को कम करने के लिए और परेशानी मुक्त यात्रा अनुभव प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध देखा जा रहा है।

गुजरात की मुंद्रा बंदरगाह पर इन ट्रेनों को समुंदर के रास्ते लाये जाने के बाद , कठोर ट्रायल किया गया है ताकि इनके संरचनात्मक मुद्दों और अन्य यात्रा सहूलियतों पर पैनी नज़र रखी जा सके। संचार आधारित परीक्षण नियंत्रण भी इन ट्रेनों में लागू नई सिग्नलिंग तकनीक के साथ सख्त परीक्षण किया गया।

चेक ब्रेकिंग, ओवरहेड इलेक्ट्रिफिकेशन और परिचालन केंद्र पर भी गहन परिक्षण करने के साथ इस मेट्रो ट्रेन को सभी मानकों पर खरा उतरने के लिए तैयार किया गया है।

अभी इस ट्रेन को सभी पॉइंट्स सभी बिंदुओं से जोड़ने से कुछ समय लगेगा और तब तक, हौज़ खास मेट्रो स्टेशन को जंक्शन के तौर पर इस्तेमाल किया जायेगा जिससे आप समयपुर बदली और हुडा सिटी सेंटर के बीच और जनकपुरी वेस्ट और बॉटनिकल गार्डन लाइन के बीच इंटरचेंज कर सकते है। कालाकाजी मेट्रो स्टेशन  जनकपुरी पश्चिम मेट्रो स्टेशन अगले इंटरचेंज स्टेशन बनाये जा सकते है ।

‘ड्राइवरहीन’ मेट्रो!  वास्तव में केवल समय बताएगा कि क्या यह सफल हो पाएंगी या नहीं , पर इन शानदार ट्रेनों में अपनी पहली यात्रा के बारे में जानना और इंतजार करना दिलचस्प होगा। शुरू में, इन गाड़ियों को ड्राइवरों द्वारा संचालित किया जाएगा और बाद में वे बिना चलने वाले ट्रेन ऑपरेशन (यूटीओ) मोड पर चलेंगे।