मोइनुलहक स्टेडियम का होगा विकास : उपमुख्यमंत्री


पटना : चार दिवसीय ‘बिहार एकलव्य खेल का पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स काम्पलेक्स, पटना में शुभारंभ करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि हाल में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सरकार बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) के साथ मोइनुलहक स्टेडियम के विकास के लिए एमओयू साइन करेगी। 17 साल के बाद अब बिहार की टीम भी रणजी क्रिकेट में भाग ले सकेंगी।

पुलिस की बहाली में खिलाड़ियों को एक प्रतिशत आरक्षण दिया जा रहा है। झारखंड बंटवारे के बाद बिहार का क्रिकेट एसोसिएशन विवाद में घिर गया था, मगर हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देकर यह स्पष्ट कर दिया है कि बिहार की टीम भी रणजी मैच में भाग लेगी। सरकार मोइनुलहक स्टेडियम को विकसित करने के लिए बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के साथ समझौता करेगी। इस स्टेडियम में बिहार के लड़के उच्चस्तरीय क्रिकेट का प्रशिक्षण लें सकेंगे।

श्री मोदी ने बताया कि बिहार में 22 एकलव्य राज्य आवासीय खेल प्रशिक्षण केन्द्र संचालित कर 370 बच्चे प्रशिक्षित किए जा रहे हैं। अगले साल 17 और एकलव्य आवासीय खेल प्रशिक्षण केन्द्र खोल कर एक हजार बच्चों को नामांकित करने का सरकार का लक्ष्य है। केन्द्र के बच्चों के खाने की राशि प्रतिदिन 100 रुपये से बढ़ा कर 225 रुपये,एक बार की जगह दो बार खेल किट और ड्रेस के साथ ही प्रशिक्षकों के मानदेय को 8 हजार से बढ़ा कर 30 हजार कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि राजगीर में सरकार की पहल पर 633 करोड़ की लागत से स्पोट्रस कम्पलेक्स सह स्टेडियम के निर्माण के लिए 90 एकड़ जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया है। सरकार खेल और खिलाडिय़ों को बेहत्तर सुविधा और प्रोत्साहित करने के लिए सदैव तत्पर है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।