मध्यप्रदेश में राम पथ गमन पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयान को तवज्जो नहीं देते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने उन्हें संसद में राम मंदिर के निर्माण के लिए अपनी पार्टी के समर्थन की घोषणा करने की चुनौती दी है। मध्यप्रदेश में इस वर्ष के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। हाल ही में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा था कि कांग्रेस के सत्ता में आने पर मध्यप्रदेश की सीमा तक राम पथ गमन का निर्माण कराया जाएगा। प्रभात झा ने कहा, ‘‘ दिग्विजय सिंह खुद राज्यसभा के सदस्य हैं, कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। वह इधर उधर की बात करने के बजाए राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर संसद में, अपनी पार्टी के समर्थन की घोषणा क्यों नहीं करते।’’

कांग्रेस के राम पथ गमन के निर्माण के वादे पर चुटकी लेते हुए बीजेपी नेता ने कहा, ‘‘ यह चुनावी रामभक्ति है, असली रामभक्ति नहीं है। कोई भी नागरिक चुनावी भक्ति से प्रसन्न नहीं होता।’’ उन्होंने जोर दिया कि बीजेपी के लिए भगवान राम आस्था का विषय हैं। बीजेपी उपाध्यक्ष ने कहा कि राम मंदिर का मुद्दा न्यायालय में लंबित है। इस विषय पर अदालत के फैसले का इंतजार है। वैसे, हिन्दू और मुसलमान मिलकर मंदिर निर्माण पर कोई फैसला भी कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान राम ने वनवास होने पर अपनी यात्रा अयोध्या से प्रारंभ की और कई प्रदेशों से होते हुए रामेश्वरम तथा फिर श्रीलंका में यात्रा समाप्त की थी।

प्रभात झा ने कहा कि भारत सरकार ने 266.48 करोड़ रूपये की लागत से ‘रामायण सर्किट’ योजना शुरू की है। इसमें उन स्थानों को जोड़ा जा रहा है जहां से भगवान राम गुजरे और जो महत्वपूर्ण स्थल उनसे जुड़े हैं। इसमें चित्रकूट का क्षेत्र शामिल है जिसका आधा हिस्सा मध्यप्रदेश और आधा हिस्सा उत्तरप्रदेश में आता है। मध्यप्रदेश सरकार ने भी इस पहल पर काम किया है। राज्य की बीजेपी सरकार पर कांग्रेस द्वारा कुशासन का आरोप लगाए जाने और अपनी जीत के दावे के बारे में पूछे जाने पर बीजेपी उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘ राज्य में कांग्रेस बहुत ही कमजोर है, 10 गुटों में बंटी है, उसके पास कोई प्रांतीय नेता नहीं है, नीति का सख्त अभाव है, ऐसे में बीजेपी को ही जनादेश मिलेगा।

कांग्रेस के दावे खोखले हैं।’’ कमलनाथ को बुजुर्ग नेता बताते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि राहुल गांधी ने उन्हें कांग्रेस का प्रदेश प्रमुख इसलिये बनाया क्योंकि वे कारोबारी हैं, उनके पास धनबल है। प्रभात झा ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया महलपति हैं और वे अपनी ही सीट में लगे रहते हैं। वे सिर्फ संसदीय क्षेत्र के नेता हैं । दिग्विजय सिंह, अजय सिंह समेत कई अन्य नेताओं के अलग अलग गुट हैं। राज्य में सरकार विरोधी लहर के बारे में प्रभात झा ने कहा कि यह एक चुनावी शब्द बन गया है । राज्य में तीन बार से बीजेपी सरकार है, क्या इससे पहले ऐसी लहर नहीं थी ? उन्होंने जोर दिया, ‘‘ बीजेपी बार बार सरकार में आती है और सरकार चलाती है। राज्य में चौथी बार शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार बनेगी । ’’