रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि आतंकवाद और सोशल मीडिया के जरिये फैल रही कट्टरता सभी देशों के लिए गंभीर सुरक्षा चुनौती है और इस समस्या से मुकाबले के लिए मजबूत सामूहिक कार्रवाई जरूरी है। फिलीपीन में आसियान देशों के रक्षा मंत्रियों के चौथे सम्मेलन में सीतारमण ने कहा कि वैश्विक सामरिक और सुरक्षा हालात लगातार बदल रहे हैं और इन्होंने नयी और गंभीर चुनौतियां पैदा की हैं।

उन्होंने कहा, हमारे साझा क्षेत्र में रक्षा और सुरक्षा परिदृश्य में पिछले दिनों महत्वपूर्ण बदलाव देखने में आये हैं। हमारे देशों को अब परंपरागत (सैन्य) और गैर-परंपरागत खतरों के लिए एक साथ तैयार होने की जरूरत है। सीतारमण ने फिलीपीन के दक्षिणी हिस्से में आतंकवाद के खतरे पर दृढ़संकल्पित तरीके से ध्यान देने के लिए इस देश की तारीफ की।

उन्होंने कहा कि समुद्री सुरक्षा एक और चिंता की बात है और भारत पूरे क्षेत्र में नौवहन, क्षेत्र के रूपर से विमानों के परिचालन और व्यापार की स्वतंत्रता का समर्थन करता है। रक्षा मंत्री ने पूर्वी और दक्षिण चीन सागर में चीन के शक्ति प्रदर्शन का परोक्ष रूप से जिक्र करते हुए कहा, देशों को समुद्री विवादों को शांतिपूर्ण तरीके से और अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार सुलझा लेना चाहिए।