किसानों ने योग दिवस पर मनाया ‘शोक दिवस’


नई दिल्ली : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हज़ारो लोग योग दिवस मना रहे है वही दूसरी तरफ मध्यप्रदेश और यूपी में किसानों ने शवासन कर विरोध किया। कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मंदसौर में हुई किसान हत्याओं के खिलाफ नए तरीके से सरकार का विरोध किया। उन्होंने देश भर में चल रहे योग दिवस के मौके पर शवासन (एक आराम की मुद्रा को मृत शरीर जैसा दिखाना) कर अपना विरोध प्रदर्शन जताया।

                                                                                             Source

हाल ही में प्रदेश में हुए व्यापक विरोध प्रदर्शन के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय के सामने ‘विरोध योग’ प्रदर्शन किया और किसानों की फसलों के लिए उचित मूल्य की मांग की। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में हुई पुलिस फायरिंग में छह किसानों की मौत हो गई थी। जिसके बाद किसानों के प्रदर्शन ने हिंसक रूप धारण कर लिया था।

ये मामला तब जाकर शांत हुआ जब प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उपवास कर प्रदर्शन बंद करने की अपील की और बातचीत के लिए बुलाया था। सिर्फ मध्य प्रदेश ही नहीं, तमिलनाडु और पंजाब समेत कई राज्यों के किसान सरकार से कर्ज माफी की मांग कर रहे हैं। कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी और सामाजिक कार्यकर्ताओं सहित कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने मंदसौर जाने का प्रयास किया था, लेकिन पुलिस ने उन्हें क्षेत्र में प्रवेश नहीं करने दिया।

यूपी में किसानों का शवासन विरोध
यूपी में किसानों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर शवासन कर विरोध किया। किसानों ने बाराबंकी में फैजाबाद हाई-वे पर शवासन कर अपना नाराजगी जताई। सैकड़ों की तादाद में मौजूद किसानों ने हाई-वे पूरी तरह से जाम कर दिया। जिसके चलते मीलों लंबा जाम लग गया। सिर्फ छात्रों और एंबुलेंस को हाई-वे से गुजरने की इजाजत दी गई। बाराबंकी के अलावा अलीगढ़-नोएडा राजकीय राजमार्ग पर भी किसानों ने विरोध जताया।

                                                                                              Source

तप्पल के पास भारतीय किसान यूनियन समेत बड़ी संख्या में किसान यहां पहुंचे और उन्होंने शवासन कर मोदी सरकार का विरोध किया। किसानों ने पूरा हाई-वे ब्लॉक कर दिया। हालांकि, भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर ही ये शवासन विरोध किया गया। किसान यूनियन ने पहले ही इसकी चेतावनी दी थी। यूनियन का आरोप है कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से किसान मरणावस्था में पहुंच गया है।

                                                                                                 Source

किसान यूनियन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में बाकायदा निंदा प्रस्ताव पास कर केंद्र सरकार को किसान विरोधी बताया गया था। भारतीय किसान यूनियन ने देशभर के किसानों से शवासन कर योग दिवस को शोक दिवस के रूप में मनाने का आह्वान किया था। हरियाणा के किसानों ने 15 जिलों में हाई-वे पर योग करने की चेतावनी दी थी।