कश्मीर मुद्दे पर फारुख का फिर बेतुका बयान, पाक से बातचीत का अलापा राग


नई दिल्ली : जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और श्रीनगर सांसद फारुख अब्दुल्ला ने एकबार फिर हुर्रियत नेताओं के जरि बातचीत को कश्मीर समस्या का हल बताया है। फारुख ने कहा कि कश्मीर समस्या का समाधान बातचीत से ही संभव है। सरकार को इस दिशा में प्रयास करना चाहिए जिससे घाटी में शांति स्थापित की जा सके। अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा है कि, ‘आपको बैल को पकड़ने के लिए उसके सींग को पकड़ना पड़ता है। कभी-कभी आप ऐसा करते हैं।’

पड़ोसी देश के साथ युद्ध के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि हम युद्ध नहीं कर सकते, उनके पास भी एटम बम है और आपके पास भी। ये रास्ता नहीं है, रास्ता बातचीत का है।

भारत-पाक के बीच कश्मीर को लेकर जारी विवाद पर उन्होंने कहा कि दोस्तों को मुद्दा हल करने के लिए साथ लीजिए। ट्रंप ने कहा है कि वो कश्मीर मुद्दा सुलझाना चाहते हैं वहीं चीन ने भी इसका ऑफर दिया है।

 

उनके इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्य के वर्तमान उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने कहा कि मैं इस बयान की निंदा करता हूं। अब्दुल्ला जब खुद मुख्मयंत्री थे तो कहते थे पाकिस्तान पर हमला करना चाहिए और अब ऐसे बयान दे रहे हैं।

 

मोदी की नीतियों से जल रहा है कश्मीर  :  राहुल

वही दूसरी तरफ कर्नाटक जाते वक्त राहुल गांधी ने कश्मीर मुद्दे को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि पीएम मोदी की नीतियों से जम्मू-कश्मीर जल रहा है। राहुल गांधी ने फारुख अब्दुल्ला के बयान पर बोलते हुए कहा है कि कश्मीर का मुद्दा हमारा आंतरिक मुद्दा है इसके लिए हमें किसी से भी नसीहत लेने की जरूरत नहीं है।

 

और इस मुद्दे को हम अपने आप सुलझा सकते हैं। पीएम मोदी पर बोलते हुए उन्होंने कहा है कि कश्मीर को मुद्दा पीएम मोदी से संभाला नहीं जा रहा है। और इसके लिए मध्यस्थ की जरूरत नहीं है।