भारत की अर्थव्यवस्था के लिए ये बेहद अच्छी खबर है जिसमे भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग के अनुसार, राजस्थान के उदयपुर और बांसवाडा जिले में 11.48 करोड़ टन के सोने के भंडार का पता लगाया जा चुका है।

Goldभारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक एन कुटुम्बा राव ने बताया कि राजस्थान में सोने की खोज में नई संभावनाएं सामने आई हैं, उदयपुर और बांसवाडा जिले के भूकिया डगोचा में सोने के भंडार मिले हैं।

Goldउन्होंने बताया कि राजस्थान में 35.65 करोड़ टन के सीसा जस्ता के संसाधन राजपुरा दरीबा खनिज पट्टी में मिले हैं। इसके अलावा भीलवाड़ा जिले के सलामपुरा एवं इसके आस-पास के इलाके में भी सीसा जस्ता के भंडार मिले हैं।

Goldराव के अनुसार राजस्थान में वर्ष 2010 से अब तक 8.11 करोड़ टन ताम्बे के भंडार का पता लगाया जा चुका है। जिसमें तांबे का औसत स्तर 0.38 प्रतिशत है।

Goldसिरोही जिले के देवा का बेड़ा, सालियों का बेड़ा और बाड़मेर जिले के सिवाना इलाकों में अन्य खनिज की खोज की जा रही है। विशेषज्ञों के मुताबिक अभी यहाँ और भी कई आश्चर्यजनक चीजें सामने आ सकती है ।

Goldउन्होंने कहा कि प्रदेश में सोने के साथ उर्वरक खनिज पोटाश व ग्लुकोनाइट की खोज के लिए नागौर, गंगापुर (करोली) सवाई माधोपुर में उत्खनन का काम चल रहा है, इन जिलों में पोटाश एवं ग्लुकोनाइट के भंडार मिलने से भारत की उर्वरक खनिज की आयात पर निर्भरता कम होगी।

Goldदेश में इस तरह के कई दावे पहले भी किए गए है पर इस खोज में काफी ठोस सबूत मिले है जो इसकी सत्यता को प्रमाणित करते है। अब देखना होगा की कब तक सरकार की तरफ से इस बहुमूल्य भण्डार को निकलने की कार्यवाही की जाती है ।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहाँ क्लिक  करें।