अहमद पटेल की बढ़ी मुश्किलें, समर्थन पर NCP ने कहा फैसला वोटिंग के दिन


गुजरात से अहमद पटेल के राज्यसभा पहुंचने की राह में कांटे ही कांटे हैं। अपने विधायकों के बगावती तेवर से परेशान कांग्रेस को पुराने सहयोगी एनसीपी पर भरोसा था, लेकिन लगता है कि अब उसने भी साथ छोड़ने का मन बना लिया है। जी हां, शरद पवार की पार्टी एनसीपी वैसे तो यूपीए की सहयोगी है, लेकिन गुजरात में एनसीपी कांग्रेस के साथ खड़ी नहीं होगी।

8 अगस्त को होने वाले राज्यसभा चुनाव से पहले एनसीपी के पीछे मुड जाने से कांग्रेस को झटका लगा है। सूत्रों के मुताबिक राज्यसभा चुनाव में एनसीपी कांग्रेस उम्मीदवार को वोट देगी या नहीं ये अभी तय नहीं है। जबकि 31 जुलाई को ही शरद पवार ने बयान दिया था कि गुजरात में एनसीपी के दोनों विधायक अहमद पटेल को वोट देंगे। शरद पवार ने ये बात अहमद पटेल को भी बता दिया था।

 दरअसल, गुजरात में कांग्रेस के 57 विधायक थे। जिनमें से 6 इस्तीफा दे चुके हैं। 44 विधायक बेंगलूरु में मौजूद है, जबकि 7 विधायक बेंगलूरु नहीं पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि वो भी बागी हैं। अहमद पटेल को जीत के लिए 45 वोट चाहिए। ऐसे में कांग्रेस एनसीपी के दो विधायकों के आसरे है। ऐसे में अब अचानक से एनसीपी के पीछे हटने से अहमद पटेल के लिए संकट खड़ा हो सकता है।