सत्ता नहीं आत्मसम्मान की बात है : नितिन पटेल


nitin patel

गुजरात में छठी बार सरकार बनाने के साथ ही भारतीय जनता पार्टी की राज्य इकाई में फूट नजर आने लगी है। मंत्रालयों के बंटवारे के समय से चर्चा में रही उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल की नाराजगी धीरे-धीरे सामने आ रही है। आज खुद डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि विजय रूपाणी के मुख्यमंत्री बनने से उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। वे सिर्फ इतना चाहते हैं कि उनका सम्मान बना रहे। नितिन पटेल ने 10 विधायकों के समर्थन की बात को सिरे से खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा कि मैंने अपनी बात पार्टी हाईकमान के सामने रख दी है। अब वे ही इस पर फैसला लेंगे। सरदार पटेल ग्रुप के नेता लालजीभाई की नितिन पटेल को मुख्यमंत्री बनाने की मांग को डिप्टी सीएम ने उनकी दिल की भावना बताई। लालजीभाई ने नितिन पटेल को मुख्यमंत्री बनाने की मांग पर सोमवार को मेहसाना बंद का आह्वान किया है। नितिन पटेल ने साफ कहा कि पार्टी से इस्तीफा देने का कोई सवाल नहीं है। ये बात सिर्फ मान-सम्मान की है, न कि सत्ता की। इस मसले पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से भी बात हुई है। नितिन पटेल ने कहा कि मैं अपने घर पर ही हूं। कोई भी मुझसे मिलने आ सकता है।

हार्दिक पटेल भी आ जाए तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच नाराजगी को पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भुनाने की कोशिश शुरू कर दी है। हार्दिक ने मौके का फायदा उठाते हुए नितिन पटेल को साथ आने की पेशकश भी कर दी । हार्दिक ने कहा है कि अगर बीजेपी में नितिन पटेल का सम्मान नहीं हो रहा है, तो वे कांग्रेस ज्वाइन कर सकते । बोटाड में हार्दिक ने कहा कि वे डिप्टी सीएम नितिन पटेल से मिलने जाएंगे। हार्दिक ने कहा कि मैंने नितिन काका को मैसेज किया था। अगर वे कहते हैं कि उन्हें बीजेपी छोड़नी है, तो मैं उनके साथ रहूंगा। वहीं बीजेपी ने अपने सभी नेताओं को नितिन पटेल के विषय में कोई बयान देने से मना । बताया जा रहा है कि पटेल को मनाने के लिए सोमवार को बीजेपी मुख्यालय में एक बैठक होगी, जिसमें सीएम विजय रूपाणी, गुजरात बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी और पूर्व सीएम आनंदीबेन पटेल मौजूद रहेंगी।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।