धन के गबन मामले में 31 मई तक तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी नहीं : सुप्रीम कोर्ट


teesta Setalvad

सुप्रीम कोर्ट ने धन के गबन के मामले में तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति जावेद आनंद की प्राप्त अंतरिम संरक्षण और ट्रांजिट अग्रिम जमानत की अवधि आज 31 मई तक बढ़ा दी। बंबई उच्च न्यायालय ने इन दोनों को दो मई तक के लिए यह संरक्षण प्रदान किया था। सुप्रीम कोर्ट ने तीस्ता और उनके पति से कहा कि वे गुजरात में सक्षम अदालत से अग्रिम जमानत प्राप्त करें।

न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ , न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति एम एम शांतानागौदर की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने कहा कि यदि तीस्ता और उसके पति राहत के लिये अनुरोध करते हैं तो संबंधित अदालत को गुण दोष के आधार पर इस पर फैसला करना चाहिए। गुजरात सरकार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी ओर अतिरिक्त सालिसीटर जनरल तुषार मेहता का कहना था कि हाई कोर्ट ने सरासर गैरकानूनी आदेश दिया है और उसे ट्रांजिट अग्रिम जमानत नहीं देनी चहिए थी।

तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सी यू सिंह ने कहा कि उच्च न्यायालय ने ट्रांजिट जमानत देकर सही किया है क्योंकि कथित अपराध महाराष्टू में एक शैक्षणिक परियोजना से संबंधित है। उन्होंने कहा कि इस मामले में हाई कोर्ट को ट्रांजिट जमानत देने का अधिकार था।

पीठ ने कहा कि यह स्पष्ट व्यवस्था है कि जहां प्राथमिकी दर्ज होती है , उसी राज्य की संबंधित अदालत के पास अधिकार क्षेत्र होता है। हाई कोर्ट ने पांच अप्रैल को अपने आदेश में कहा था कि तीस्ता और उनके पति के खिलाफ धन के गबन के आरोप में गुजरात पुलिस द्वारा दर्ज आपराधिक मामले में दोनो को 2 मई तक गिरफ्तारी नहीं किया जाना चाहिए।

अहमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा ने एक शिकायत पर इस दंपति के खिलाफ गबन का मामला दर्ज किया है। दोनों पर आरोप है कि उन्होंने 2008 से 2013 के दौरान भारत सरकार से अपने गैर सरकारी संगठन सबरंग ट्रस्ट के माध्यम से धोखाधड़ी करके 1.4 करोड़ रूपए का अनुदान प्राप्त किया था। गुजरात पुलिस के अनुसार यह धन 2002 के दंगा पीडि़तों की मदद के लिये प्राप्त किया गया था लेकिन दूसरे कार्यों के लिये इसका इस्तेमाल किया गया।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।