ऐसिड अटैक मामले में 10 साल की उम्रकैद सजा का प्रावधान


नारनौल: जिला विविध सेवा प्राधिकरण की ओर से एसिड-अटैक पर चलाए जा रहे अभियान ‘हौसलों से उड़ान’ नामक कार्यक्रम के तहत आज राजकीय प्राथमिक विद्यालय नसीबपुर और गल्र्स आईटीआई नारनौल में अधिवक्ता राजेन्द्र प्रसाद ने अपने विचार वक्त किए। स्कूल प्रार्चाय यादराम ने बच्चों को ऐसिड अटैड से होने वाले नुकसान और उससे बचने के बारे में जागरूक किया। गल्र्स आईटीआई में वंदना शर्मा इंचार्ज ने उपस्थित बच्चों को इस अपराध से बचने के बारे में भी जागरूक किया।

उपरोक्त संस्थाओं में अधिवक्ता राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि ऐसिड़ अटेक जैसे अपराध में 326-ए आईपीसी की धारा के तहत 10 साल से उम्र कैद तक और 326-बी के तहत कम से कम 5 साल तक की कड़ी सजा का प्रावधान किया गया है। इस अवसर पर पैरालिगल वालिंन्टर जय शेखावत, रामचन्द्र, निहाल सिहं, सविता, सुशीला, सरोज, सत्य नारायण, सरोज, संतोषबाई, मनीषा, अजय कुमार आदि उपस्थित थे।

– महेश कुमार