किसान महापंचायत को लेकर अड़ी भाकियू


करनाल: भारतीय किसान यूनियन शामगढ़ में होने वाली किसान महापंचायत की तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष रतनमान ने कहा है कि प्रदेशभर से हजारों किसान 20 जुलाई को आयोजित होने वाली महापंचायत में भाग लेंगे। इस अवसर पर कर्ज मुक्ति को लेकर आन्दोलन की घोषणा की जाएगी। भाकियू के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने कई गांवों का दौरा किया। किसानों में इस महापंचायत को लेकर भारी उत्साह दिखाई दे रहा है। कर्ज मुक्ति को लेकर किसान आर-पार की लड़ाई लडऩे के मूड़ में है। अगले माह से बड़े आन्दोलन की घोषणा हो सकती है। प्रदेशाध्यक्ष रतनमान ने बताया कि पंजाब, यूपी में सरकारों द्वारा कर्ज मुक्ति की घोषणा के बाद अब हरियाणा सरकार को भी किसानों को कर्ज से मुक्ति दे देनी चाहिए। जब सरकार बड़े-बड़े उद्योगपत्तियों को हजारों करोड़ रुपए का कर्ज एन.पी.ए में डाल सकती है। उन्हें फिर से उद्योग चलाने के लिए कर्ज दे सकती है तो फिर किसानों को क्यों नहीं। आखिरकार सरकार किसानों के साथ भेदभाव क्यों कर रही है।

एक तरफ सरकार खेती को उद्योग का दर्जा देना चाहती है। दूसरी तरफ उद्योगों के समान खेती को सुविधाएं नहीं देती। यह भेदभाव सहन नहीं करेंगे। उन्होंने जी.एस.टी की चर्चा करते हुए कहा कि कृषि उपकरणों, कीटनाशक खाद, दवाईयां और ट्रैक्टरों पर जी.एस.टी लगाकर किसानों की कमर तोडऩे का काम किया है। इससे कृषि प्रभावित होगी। महापंचायत में इस पर भी विचार किया जाएगा। ग्रामीणों को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष बाबूराम बड़थल ने कहा कि किसान अपने हको को लेकर एकजूट है। वह संघर्ष अंतिम सांस तक करेंगे। इस महापंचायत के बाद आन्दोलन की हवा बदल जाएगी। सरकार को झुककर किसानों की मांग माननी पड़ेगी। उधर मिली जानकारी के अनुसार शामगढ़ के किसान जसविन्द्र को पुलिस ने देर रात रिहा कर दिया। इस मौके पर जिला सरंक्षक मैहताब कादियान, खंड नीलोखेड़ी अध्यक्ष बाबूराम डाबरथला, संयोजक राजेन्द्र आर्य दादूपुर, मेहर सिंह, चतर सिंह, बुजुर्ग किसान नेता नरसी डाबरथला, संतु राम, जगदीश सिंह, राजपाल, जित्ता पंच, साहिल, भाग सिंह, श्रद्धा राम, संदीप समेत अन्य किसान मौजूद रहे।

– आशुतोष गौतम