17 साल बाद नहर में आया पानी


फर्रुखनगर: पंजाब केसरी में प्रकासीत हुई खबर का असर दक्षिणी हरियाणा के तीन जिलो के किसानों को सस्ती दर पर मीठा पानी उपलब्ध कराने के लिए करोड़ों रूपये की लागत से तैयार कराई गई सूखी पड़ी लुहारी डिस्ट्रीब्यूटरी नहर में शुक्रवार को पानी पहुंच गया है। करीब 17 साल गुजर जाने के बाद सूखी पड़ी हुई नहर में पानी पहुंचने के बाद किसानो की खुशी का ठिकाना नही रहा। इससे पहले एक बार 23 जनवरी 2001 में पानी आने पर लोगों ने खुशी मनाई थी। उसके बाद से खंड फर्रूखनगर के किसान पानी आने का इंतजार करते आ रहे थे। जो कि नहरे अधिकांश जगहों से टूटी फुटी पडी हुई होने के कारण व पानी के तेज बहाव से नहर से लगते खेतो में कई जगह पर पानी भर गया है।

जिसमें मरमत का कार्य भी साथ के साथ कराया गया है। ज्ञात रहे कि गुरूग्राम सहित झज्जर व रेवाडी क्षेत्र के तीन जिलों में नहरी पानी उपलब्ध कराने के लिए सरकार द्वारा योजना बनाई गई थी। जिसे अमली जामा पहनाने के लिए राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री सर्व. चौधरी बंसीलाल ने खंड पटौदी के गांव बृजपुरा में 6 दिसंबर 1998 को रेवाड़ी लिफट ईरीगेशन स्कीम के अंतरगत आधार शिला रखी थी। उस समय नहर बनाने की समयवधि दो वर्ष निर्धारित की गई थी। परंतु उसमें एक बार पानी आने के बाद अब तकनहर में पानी नही आया था। लेकिन आज जब अपने क्षेत्र की नहर में पानी आने से लोगो में खुशी है।

नहरी पानी से इन गावों को होगा ज्यादा फायदा राजपुरा, लुहारी, फरीदपुर, खंडेवला, जाटोली, जाटोला, तिरपडी, गुगाना, जोनियावास आदि गांवो में कई एकड जमीन की नहरी पानी से सिचाई होने से फायदा होगा। देशराज यादव खेंटावास,विजय पंडीत पातली, पूर्व सरपंच महेन्द्र सिंह, राजेन्द्र कुमार, अनील यादव, दयाराम यादव डाबोदा, अधिवक्ता नरेश राव,कप्तान रणधीर सिंह खेडा,किसान कल्ब के अध्यक्ष राव मान सिंह, मास्टर औमप्रकाश यादव, मास्टर जीतराम यादव, औमपाल चौहान,पूर्व सरपंच प्रदीप यादव, कंवर सिंह नम्बरदार आदि किसानो का कहना है कि दिल की गहराईयों से हम मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटर, सांसद एवं केन्द्रीय राज्य शहरी एवं विकास मंत्री राव इन्द्रजीत सिंह व पटौदी विधायक बिमला चौधरी का आभार प्रकट करते हुए कहते है कि हमने सरकार के लिए महंगे भाव की जमीन सस्ते में दी थी कि नहरों के माध्यम से उनके खेतों में फसल की पैदावार के लिए मीठा पानी मिलेगा।

– हंसराज यादव