मटका फोड़ प्रदर्शन, जाम लगाकर की नारेबाजी


सोहना: गांव बादशाहपुर में एक पखवाड़े से बनी पेयजल किल्लत से परेशान महिलाएं और लोग आज सड़क पर उतर आए और खाली मटके फोड़कर नारेबाजी कर सड़क के बीचो बीच बैठ विरोध प्रदर्शन करने लगे। जिससे सड़क मार्ग अवरूद्ध होने पर आवाजाही रूक गई और सड़क के दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइन लग गई। सूचना पाकर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और गुस्साए लोगों व महिलाओं को सड़क से हटने का आग्रह किया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने साफ कहा कि जब तक संबंधित अधिकारी मौके पर आकर उनकी समस्या का समाधान नही करेंगे, तब तक वह हर्गिज सड़क से नही उठेंगे। गुस्साई महिलाओं और ग्रामीणों ने बताया कि गांव बादशाहपुर के मेन बाजार, सैनीपुरा मोहल्ले, पंजाबीवाड़ा, रविदास मंदिर एरिया समेत विभिन्न वार्डों और मोहल्लों में बीते एक पखवाड़े से पानी की जबरदस्त किल्लत बनी हुई है लेकिन उनके बार-बार गुहार लगाने के बावजूद संबंधित विभाग के अधिकारी मनमर्जी और लाल फीताशाही दिखाते हुए समस्या के निवारण पर कोई ध्यान नही दे रहे है। उन्हे तेज गर्मी और तपती दोपहरी में रोड जाम करने का कोई शौक नही है।

वह एक-एक बूंद पानी के लिए तरस रहे है और अधिकारी एसी कमरों में बैठ मौज मार रहे है। पानी किल्लत के चलते वह घरेलू कामकाज भी नही निपटा पा रहे है। पुलिस ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को मौके पर आने का आग्रह किया। हालातों को भांप संबंधित विभाग के अधिकारी मौके पर तो नही आए लेकिन कुछ ही देर में गांव बादशाहपुर में पानी आपूर्ति चला दी गई। तब घरों में मौजूद बच्चों ने धरने प्रदर्शन पर बैठे परिजनों को बताया कि नलों में पानी आ गया है।

जिस पर प्रदर्शनकारी अपने-अपने घरों को लौट गए। जानकारी लेने पर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर राजेन्द्र कुमार ने बताया कि कुछ देर के लिए गुस्साए लोगों और महिलाओं ने सड़क मार्ग अवरूद्ध किया था लेकिन उन्होने संयम से काम लेते हुए सड़क मार्ग को खुलवा दिया है। संबंधित विभाग के अधिकारियों को मौके पर आने का आग्रह किया गया था लेकिन शायद वह जनता के आक्रोश को भांप मौके पर नही आए लेकिन उन्होने गांव बादशाहपुर में पेयजल आपूर्ति चालू कर गुस्साए लोगों का गुस्सा ठंडा किया है। उन्होने संबंधित विभागों के अधिकारियों से आग्रह किया है कि वह पेयजल किल्लत का स्थाई रूप में समाधान करे।

– उमेश गुप्ता